sana

बम ब्लास्ट की साजिश रच रहे हिन्दू संस्था सनातन पर पाबंदी को लेकर आवाज तेज होती जा रही है। मुंबई में भारत बचाओ आंदोलन के बैनर तले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पोते तुषार गांधी ने भी पाबंदी की मांग के साथ सनातन के सामाजिक बहिष्कार की अपील की।

हालांकि इसी बीच प्रदेश के गृह राज्य मंत्री दीपक केसरकर ने कहा कि सनातन संस्था पर पाबंदी लगाने की मांग अपरिपक्व बयान है। केसरकर ने कहा कि संस्था पर पाबंदी लगाने की मांग करना अभी जल्दबाजी है। क्योंकि अभी पुलिस मामले की जांच कर रही है।

मंत्रालय में गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में केसरकर ने कहा कि सनातन संस्था पर पाबंदी लगाने का प्रस्ताव राज्य सरकार की तरफ से केंद्र को भेजा गया है। लेकिन केंद्र सरकार भी तत्काल फैसला नहीं ले सकती। क्योंकि किसी भी संस्था पर पाबंदी लगाने के लिए एक प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है।

केसरकर ने कहा कि पुलिस ने नालासोपारा से जिन आरोपियों को पकड़ा है, उनकी जांच चल रही है। आरोपियों के पास से व्हाट्सएप के जरिए कुछ सबूत मिले हैं। फिलहाल इस मामले में पुलिस कड़ियों को जोड़ रही है।

बता दें कि रविवार को देसी बम बरामदगी केस में महाराष्ट्र एटीएस ने सनातन आतंकियों के बाद अब शिवसेना के चालीस वर्षीय पार्षद श्रीकांत पांगारकर को गिरफ्तार कर चुकी है। एटीएस ने इससे पहले वैभव राउत, शरद कलसकर और सुधान्वा को गिरफ्तार किया था।

वैभव राउत के घर कई देसी बम और हथियार बनाने की सामग्री मिली थी। इतना ही नहीं आतंकियों से चार एयर पिस्टल्स, 20 एयर पिस्टल पैलेट्स, दो सीपीयू, दो नोटबुक, एक डायरी, तीन मोबाइल और दो सिमकार्ड बरामद किए थे। इन आतंकियों की मराठा आरक्षण आंदोलन के दौरान बम धमाके करने की योजना थी। आरोपितों की योजना बम धमाकों को मुंबई, पुणे, सतारा, सोलापुर और नालासोपारा में अंजाम देने की थी।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें