Sunday, August 1, 2021

 

 

 

इंदौर में अस्पताल की लापरवाही से 6 की मौत, लाइसेंस अस्थाई ताैर पर निरस्त

- Advertisement -
- Advertisement -

लगातार विवादों में रहे इंदौर के गोकुलदास अस्पताल का लाइसेंस अस्थाई रूप से रद्द कर दिया गया है। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि 6 घंटे में 6 मौतों के बाद उठे विवाद के बीच कलेक्टर के आदेश पर यह कार्रवाई की गई है।

दरअसल,  कोरोनो संदिग्धों के इलाज के लिए निर्धारित यलो कैटेगरी में शामिल इंदौर के गोकुलदास अस्पताल में भर्ती मरीजों के स्वजनों का गुरुवार को एक वीडियो वायरल हुआ है। इसमें संबंधित परिवारों के लोगों ने अस्पताल पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है। वीडियो में स्वजन बता रहे हैं कि आधे घंटे के भीतर यहां पांच मरीजों की मौत हो गई है।

भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, विडियो के सामने आने के बाद सांसद शंकर लालवानी ने मामले में कलेक्टर मनीष सिंह से बात की। इस पर संभागायुक्त (कमिश्नर) आकाश त्रिपाठी और कलेक्टर ने 3 सदस्यीय जांच कमेटी बैठा दी। कलेक्टर के मुताबिक, अस्पताल का लाइसेंस अस्थाई तौर पर निरस्त कर दिया है। यहां के मरीजों को मेडिकल कॉलेज के अस्पतालों में शिफ्ट करेंगे। जांच में प्रबंधन दोषी मिला तो लाइसेंस स्थाई रूप से निरस्त कर अस्पताल सील कर देंगे।

सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि वीडियाे वायरल हाेने के बाद रात में ही मैं अपने दाे सहयाेगियाें के साथ अस्पताल पहुंचा और जांच की। दस्तावेज चेक करने पर पता चला कि गुरुवार काे वहां छह घंटे में छह माैतें हुईं। पहली मौत सुबह साढ़े 11 बजे के करीब हुई थी। इसके बाद शाम को 3.40 से लेकर साढ़े 5 बजे के बीच तीन मौतें हो गईं।

उन्होने बताया, अभी अस्पताल का अस्थाई रूप से लायसेंस निरस्त कर दिया गया है। अब अस्पताल नए मरीजों को भर्ती नहीं कर पाएगा। अभी वहां 13 मरीज भर्ती हैं। इनमें से एक आईसीयू में, जबकि 12 मरीज जनरल वार्ड में भर्ती हैं। इन सभी को अन्य अस्पतालाें में शिफ्ट करने पर विचार किया जा रहा है। मरीजों को शिफ्ट करने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles