Wednesday, August 4, 2021

 

 

 

VIDEO: हरीद्वार में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने मस्जिद और मदरसे को बनाया निशाना

- Advertisement -
- Advertisement -

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमे कथित तौर पर हिंदुत्व समर्थकों की भीड़ दिखाई दे रही है। जो कथित तौर पर एक मस्जिद-मदरसे पर धावा बोलते है और नारेबाजी करते हुए नमाज में बाधा उत्पन्न करते है। यह घटना शुक्रवार को उत्तराखंड के हरिद्वार जिले के रोशनाबाद इलाके की बताई जा रही है।

पुलिस ने घटना की पुष्टि की है। सिडकुल पुलिस स्टेशन के सब-इंस्पेक्टर मनीष नेगी ने कहा, “मूल रूप से, यह शुक्रवार को एक मदरसे में हुआ था जब लोग नमाज पढ़ रहे थे।” “गैर-स्थानीय लोगों सहित बड़ी संख्या में मुसलमान शुक्रवार की नमाज के लिए वहां जमा हुए थे। इसका कुछ लोगों ने विरोध किया।”

उन्होंने कहा कि उपमंडल मजिस्ट्रेट समेत स्थानीय पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और स्थिति को शांत किया। उन्होने कहा, “यह एक छोटी सी घटना थी। हमने अभी तक कोई मामला दर्ज नहीं किया है लेकिन मामले की जांच कर रहे हैं।’

वीडियो में हिंदुत्व समर्थक पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में मदरसा-मस्जिद के परिसर में ‘जय श्री राम’, ‘हर हर महादेव’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाते हुए दिखाई दे रहे हैं।

जमीयत उलेमा हिंद के एक सदस्य मौलाना आरिफ कासिमी ने आरोप लगाया कि नमाज में व्यवधान एक पूर्व नियोजित घटना थी। मस्जिद एक हिंदू बहुल इलाके में एक जंगल के करीब स्थित है जहां गुर्जर समुदाय के साथ मुट्ठी भर मुस्लिम आदिवासी परिवार भी रहते हैं। वे जीविकोपार्जन के लिए मवेशी पालते हैं।

कासिमी के मुताबिक कुछ एकड़ जमीन खरीदकर मुसलमान कई सालों से वहां रह रहे हैं। उन्होंने अपने बच्चों को धार्मिक शिक्षा प्रदान करने के लिए एक मस्जिद और मदरसे के रूप में काम करने के लिए एक छोटी सी इमारत का निर्माण किया। इस इलाके में हिंदू समुदाय का दबदबा है।

कासिमी ने कहा, “रोजाना पांच नमाज के लिए, केवल स्थानीय मुसलमान ही मस्जिद जाते हैं, लेकिन शुक्रवार को मजदूरों, निर्माण श्रमिकों और कुछ अन्य लोगों की भीड़ जमा हो जाती है, जो सामूहिक प्रार्थना के लिए मस्जिद जाते हैं।” हालांकि दो हफ्ते पहले ही दो पुलिसकर्मियों ने शुक्रवार की नमाज से पहले मस्जिद का दौरा किया और इमाम और स्थानीय लोगों से कहा कि कोविड -19 महामारी को देखते हुए बड़ी सभा नहीं होनी चाहिए। ” पुलिस ने स्थानीय लोगों से कहा कि केवल पांच पुरुषों को सामूहिक प्रार्थना करनी चाहिए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles