chatraal
chatraal
पीड़ित नूर आलम

गणतंत्र दिवस पर जहाँ देश अपने गौरवशाली संविधान पर गर्व महसूस कर शान से तिरंगा फेहरा रहा था वहीँ कासगंज की हुई हिंसा ने देश को हिलाकर रख दिया है जिस दिन कासगंज में हिंसा हो रही थी वहीँ गुजरात के अहमदाबाद से 45 किमी दूर छत्राल गाँव में पिछले सप्ताह से खौफ का माहौल बना हुआ है.

गणतंत्र दिवस की रात्री को चिकन के ठेले पर काम करने वाले नूर आलम की तलवार से हमला कर जान लेने की कोशिश की गयी.

सूत्रों के मुताबिक रात्री में बजरंग दल के अमित पटेल उर्फ़ कालिया अपने चार साथियों के साथ चिकन के ठेले पर पहुंचा और वहां जमकर हुडदंग मचाया, जिसका विरोध करने पर कारीगर नूर आलम पर जानलेवा हमला कर दिया गया. यह हमला तलवार से किया गया था. जिस कारण नूर आलम को गंभीर चोटें आई और हालत गंभीर होने के कारण उन्हें अहमदाबाद के वी.एस.हॉस्पिटल ले जाया गया. पीड़ित का अभी ईलाज चल रहा है लेकिन तलवार के वार चेहरे और सिर पर होने के कारण स्थिति गंभीर है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

घटना से भयभीत छात्राल गाँव के लोग गाँव छोड़कर गांधीनगर कलेक्टर में शरण लेने का विचार कर रहे हैं।

अल्पसंख्यक अधिकार मंच के अधिवक्ता शमशाद पठान के अनुसार छात्राल में पिछले काफी दिनों से त्रिशूल दीक्षा जैसे कार्यक्रम चल रहे हैं तथा मुस्लिम समुदाय को लगातार भड़काने को कोशिश की जा रही है.

अल्पसंख्यक अधिकार मंच के साथी शरीफ मलेक की जबरदस्त कोशिश के चलते बजरंग दल के अमित पटेल और दूसरे चार अनजान लोगों के खिलाफ IPC की कलम 307,324,323,147,148,149 और धारा 135 के तहत FIR कलोल तालुका पुलिस स्टेशन में दर्ज हो गई है.

वहीँ आरोप लगाया गया है की वो पीड़ित को ही धमकाने की कोशिश की जा रही है, आरोपी अमित पटेल भाजपा के पूर्व विधायक का ख़ास बताया जा रहा है जिसके चलते पुलिस पर भी FIR से नाम हटवाने का दबाव बनाया जा रहा है.

कोहराम न्यूज़ इस मामले को लेकर ऍफ़आईआर की कॉपी प्राप्त करने में सफल हो गया 

img 20180128 wa0010 img 20180128 wa0009

Loading...