मंदसौर में किसान आंदोलन पूरी तरह से उग्र हो गया है. किसानों ने बरखेडा में जिला कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह के साथ पिटाई के बाद अब जगह-जगह तोड़फोड़ और आगजनी की घटना हो रही है.

किसानों ने पिपलिया मंडी थाना जलाने की कोशिश की तो बूढ़ा और मेलखेड़ा पुलिस चौकी को आग लगा दी गई है. वहीँ शाम को उज्जैन आईजी वी मधुकुमार, डीआईजी रतलाम अविनाश शर्मा ने मंदसौर पहुंच स्थिति का जायजा लिया. दलौदा में भी चक्काजाम और फिर रेल पटरियां उखाड़ दी गई.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा लगभग 18 ट्रकों में आग लगाने व कई चार पहिया व दुपहिया वाहनों में तोड़-फोड़ की गई है. साथ ही कुछ पुलिसकर्मियों के अपहरण की खबर है.

शामगढ़ के लिए जा रही चंबल पेयजल आवर्धन योजना की पाइप लाइन फोड़ दी. मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी का वाहन भी जला दिया. इसके बाद किसानों ने मेलखेड़ा में ही बीएसएनएल के कार्यालय में भी आग लगा दी है.

सीतामऊ में किसानों ने ग्राम बिलांत्री के पास स्थित टोल नाके की एंबुलेंस को आग के हवाले कर दिया. पिछले  एक हफ्ते से पूरा मंदसौर और रतलाम जिला बंद है.

Loading...