देवबंद से आतंकवाद के आरोप में पकड़े गए तीनो युवकों को आज उत्तर प्रदेश के एटीएस (एंटी टेररिस्ट स्क्वायड) द्वारा छोड़ दिया गया है. एटीएस ने तीनों युवकों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था. एटीएस को जांच में पता चला कि इन छात्रों का आतंकवाद से कोई कनेक्शन नहीं है. जिस के बाद तीनों को देवबंद पुलिस के जरिए छोड़ दिया गया है. पकड़े गए इन छात्रों में से 2 कश्मीर के रहने वाले हैं. जबकि एक आरोपी बिहार का रहने वाला है.

तीनों युवक दानिश पुत्र अशरफ मीर निवासी कुपवाड़ा कश्मीर, अब्दुल बासित पुत्र अली मोहम्मद निवासी कुपवाड़ा कश्मीर और अब्दुल रहमान पुत्र फारूक निवासी भागलपुर बिहार तलबा हैं. तीनों पढ़ाई के लिए देवबंद में रहते हैं. अब्दुल्लाह की गिरफ्तारी के बाद एटीएस ने इन्हें पूछताछ के लिए उठाया था, लेकिन घंटों पूछताछ के बाद भी इनसे एटीएस को कोई जानकारी नहीं मिली.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके चलते एटीएस की टीम पूछताछ के बाद सोमवार को तीनों युवकों को देवबन्द कोतवाली लेकर पहुंची. यहां एटीएस की टीम ने तीनों युवकों को देवबन्द कोतवाली के प्रभारी पंकज त्यागी के सुपुर्द कर दिया.एटीएस की टीम के चले जाने के बाद कोतवाली प्रभारी ने मदरसा प्रबन्धन को सूचना दी और मदरसे के जिम्मेदार लोगों को बुलाकर तीनों युवकों को उनके सुपुर्द कर दिया.

जानकारी के मुताबिक एटीएस की टीम ने मुजफ्फरनगर के कुटेसरा से जिस बांग्लादेशी आतंकी अब्दुल्लाह को गिरफ्तार किया था उसके मोबाइल फोन में इन तीनों तलबाओं के नंबर थे. माना जा रहा है कि इसी शक के आधार पर एटीएस इन तीनों युवकों को पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई थी.

Loading...