दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में बुधवार को उत्पात मचाने के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसए) की छात्र इकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकर्ताओं ने अब खालसा कॉलेज में पहुँच कर जमकर उत्पात मचाया.

दो दिन पहले रामजस कॉलेज प्रशासन ने ‘कल्चर ऑफ प्रोटेस्ट’ नाम के दो दिवसीय कार्यक्रम में उमर ख़ालिद और शेहला रशीद को निमंत्रण दिया था. जिसे एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने रद्द करा दिया था. अब इसी तरह खालसा कॉलेज में होने वाले प्ले कॉम्पिटिशन को भी एबीवीपी  की धमकी के बाद रद्द कर दिया गया.

एबीवीपी की अगुवाई वाले दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ (डीयूएसयू) के अध्यक्ष अमित तंवर ने प्रिसिंपल को धमकी दी हैं कि सेमिनार में अगर कुछ भी देश विरोधी कार्यक्रम होगा तो उसके सुरक्षा की गारंटी नहीं होगी. वहीं कॉलेज प्रिसिंपल जसविंदर सिंह ने कहा कि कार्यक्रम को बस स्थगित किया गया है और ऐसा किसी के दबाव में नहीं हुआ है.

डीयूएसयू अध्यक्ष ने कहा, “मैंने कॉलेज के प्रिंसिपल से फोन कर कहा कि वह सभी नाटकों के स्क्रिप्ट पढ़ें और यह सुनिश्चित करें कि कुछ भी आपत्तिजनक न हो. ऐसा होने पर सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं रहेगी.” खालसा कॉलेज के थिएटर संयोजक और असिस्टेंट प्रोफेसर सैकत घोष ने कहा कि डीयूएसयू की तरफ से मिली धमकी के बाद ही कार्यक्रम को रद्द किया गया है.

उन्होंने कहा “एबीवीपी को कार्यक्रम के कुछ नाटकों पर आपत्ति थी. जो कि उनके अनुसार, राष्ट्रवादी विचारधारा के खिलाफ था. एबीवीपी के तरफ से मिली धमकी के बाद पुलिस ने हमें शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए कार्यक्रम को रद्द करने को कहा.”


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें