asam

asam

असम के दरांग जिले के धुला में पुलिस हिरासत में मुस्लिम युवक की मौत के मामले में आरोपी पुलिस अधिकारी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

ध्यान रहे बीते दिनों धौला पुलिस स्टेशन में कथित तौर पर अवैध हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार मुस्लिम युवक हसन अली की हिरासत में मौत का मामला सामने आया था. इस घटना को लेकर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर भी पुलिस ने गोलियां चलाई थी. जिसमे एक 14 साल की लड़की सहित दो व्यक्ति की मौत हो गई थी. कई घायल भी हो गए थे.

असम के पुलिस महानिदेशक मुकेश सहाय ने कहा कि उसकी मौत पुलिस हिरासत में ही हुई है और इस सम्बन्ध में पहले से ही एक मामला दर्ज किया गया है. सम्बंधित पुलिस अधिकारी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसको न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है और जांच चल रही है.

ऑल असम अल्पसंख्यक छात्र संघ (एएएमएसयू) के कार्यकर्ता ऐनुद्दीन का कहना है कि असम के हजारों वास्तविक भारतीय मुस्लिमों को बांग्लादेश से का अवैध प्रवासी बताकर उनका उत्पीड़न किया जाता है. 2,000 से ज्यादा लोगों को पूरे राज्य में नजरबंद शिविरों में रखा गया है.

वहीँ ऐसे लोगों को न्यायिक सहायता प्रदान करने वाले वकील अमन वादुद का कहना है कि पुलिस का रवैया हमेशा असम के मुसलमानों के प्रति सही नहीं रहा है. जब भी मुसलमान अपने अधिकारों की बात करते हैं, तब पुलिस उनकी आवाज को दबाती है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें