vv1

असम के अमचंग वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी में सोमवार को अतिक्रमण हटाने की मुहिम का हवाला देते हुए असम सरकार ने रह रहे मुस्लिम और आदिवासियों को कड़क सर्दी में बेघर कर दिया.

गुवाहाटी हाईकोर्ट के अतिक्रमण हटाने और 30 नवंबर को स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के आदेश के बाद ये कदम उठाया गया. अधिकारियों का कहना है कि लोग अवैध रूप से संरक्षित वन क्षेत्र में रह रहे थे. बताया जा रहा है कि यहाँ 100 से अधिक लोग रह रहे थे.

वन विभाग के अधिकारियों ने बांस और टिन से बनी झोपडि़यों को नष्ट कर दिया गया. इस दौरान 15 से अधिक हाथियों, कुछ बुलडोज़र्स, 300 विध्वंस मजदूरों और 10 जेसीबी का इस्तेमाल किया गया.

assam elephant eviction ap

किसी भी विरोध से निपटने के लिए 1,500 पुलिस कर्मियों की भी तैनाती की गई. कहा जा रहा है कि लगभग 408 घरों को ध्वस्त कर दिया गया. पुलिस ने भीड़ को  तितर बितर करने के लिए  लाठीचार्ज, आंसू गैस और रबर की गोलियां चलाईं, जिसमें तीन महिलाओं सहित कई लोग घायल हो गए.

बिना पूर्व सुचना के कार्रवाई और पुलिस की और से लाठीचार्ज के विरोध में अब विभिन्न संगठनों ने 12 घंटे का असम बंद बुलाया है.

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano