कथित गौरक्षा के नाम पर राजस्थान के अलवार जिले में भगवा आतंकियों द्वारा पीटपीट कर ली गई मुस्लिम युवक पहलू खान की जान और उसके सहयोगियों को घायल करने के मामलें में राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस पुरे मामलें की जांच सीबीआई से कराने की मांग की हैं.

उन्होंने कहा, मुख्तार अब्बास नकवी के बयानों की आलोचना करते हुए कहा कि ह बहुत दुर्भाग्य की बात है कि संसद में मंत्री खुले तौर पर झूठ बोल रहे हैं. गहलोत ने कहा कि मंत्री ने उस घटना को नकार दिया जिसमें कथित गौरक्षकों द्वारा पिटाई कर पहलू खां की हत्या कर दी गई, जबकि इस बात के पर्याप्त सबूत मौजूद हैं कि किस तरह से पहलू खां को गौरक्षकों ने पिटाई की है.

उन्होंने कहा कि राजस्थान के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया गंभीर घटना को केवल हाथापाई बता रहे है. न तो प्रदेश के गृहमंत्री और न ही प्रदेश की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे दोनो में से किसी ने भी हत्या की निंदा तक नहीं की है, जो 36 कौमों का प्रतिनिधित्व करने की बात करते है.

गहलोत ने सवाल उठाया कि कहा कि गृहमंत्री ऐसा बर्ताव कर रहे हैं जैसे कि वो केवल गौरक्षकों के प्रतिनिधि है और सभी जातियों और समाज के नहीं। जिन बदमाशों ने पहलूखां के साथ मारपीट की उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने में पुलिस ने क्यों देरी की, उन सभी अपराधियों को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया. यह स्पष्ट है कि पुलिस मुख्यमंत्री और गृहमंत्री के दबाव में काम कर रही है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें