जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने कठुआ जिले में नाबालिग के साथ दुष्कर्म और हत्या मामले में एक पुलिसकर्मी को हिरासत में लिया है. इसके अलावा एक अधिकारी से भी पूछताछ की जा रही है. आठ वर्षीय आसिफा के साथ रेप और हत्या मामले मेंहेड कांस्टेबल तिलक राज को हिरासत में लिया गया है. सब-इंस्पेक्टर आनंद दत्ता से पूछताछ की जा रही है.

ध्यान रहे इससे पहले इस मामले में संदिग्धों के रूप में दो विशेष पुलिस अधिकारी दीपक कुमार खाजुरिया और सुरिन्द्र वर्मा को गिरफ्तार किया जा चूका है. हालांकि भाजपा की और से इस मामले को केंद्रीय जांच ब्यूरो(सीबीआई) को सौंपने की मांग की जा रही है. वहीँ पीडीपी के नेताओं का कहना है कि अपराध शाखा को यह जांच करने दिया जाना चाहिए.

इसी बीच जांच में सामने आया कि आरोपियों ने सबूतों को मिटाने की पूरी कोशिश की. क्राइम ब्रांच ने पुलिस महानिरीक्षक एसपी वैद को लिखे गए एक पत्र में कहा कि आसिफा के कपड़े जिन पर रक्त और मिट्टी लगी थी, को फोरेंसिक प्रयोगशाला में भेजे जाने से पहले धोया गया था. अपराध स्थल को पुलिस ने संरक्षित नहीं किया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा आसिफा के परिवार ने बेटी के गायब होने की शिकायत दर्ज करने के बाद भी कोई खोज नहीं की. वैद ने एनडीटीवी को बताया कि जांच में सामने आने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. बता दें कि आसिफा का 10 जनवरी को रासाना गांव से अपहरण कर लिया गया था.

आरोपी विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) दीपक कुमार के समर्थन में हिंदू एकता मंच द्वारा प्रदर्शन करने को लेकर जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने नाराजगी जताई. उन्होंने कहा, कठुआ में हाल में पकड़े गए रेपिस्ट के बचाव में प्रदर्शन और मार्च से स्तब्ध हूं. प्रदर्शन के दौरान राष्ट्रीय झंडे के इस्तेमाल से भी भयाक्रांत हूं. यह अपवित्रता से कम कुछ भी नहीं है.

Loading...