10 05 2018 amu sh

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में छात्रों के अनिश्चितकालीन धरने को आज लगातार दसवा दिन है. करीब 40000 छात्रों ने गेट पर जुमे की नमाज अदा कर एक बार फिर से अपने इरादे बता दिए कि बिना मांगे पूरी हुए वे पीछे नहीं हटेंगे.

दरअसल, ये सभी छात्र 2 मई को पूर्व उपराष्ट्रपति के दौरे के दौरान कैंपस में हमले के  दोषी हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं और उनके साथ आए पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. हालांकि इस दौरान छात्रो का एक अलग ही रूप देखने को मिला.

AMU छात्र उन पुलिसकर्मियों को भरी गर्मी में संतरे और केले खिलाते हुए शरबत पिलाते हुए नजर आए. जिसने लाठियां भांज कर उन्हें लहुलुहान किया था. इनमे सीओ संजीव दीक्षित व इंस्पेक्टर सिविल लाइंस जावेद खां भी हैं, जिनके निलंबन की मांग छात्रसंघ ने मुख्य रूप से उठाई है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इंस्पेक्टर पर आरोप था कि हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं को वही बॉबे सैयद तक नारेबाजी कराते लाए थे.छात्र संघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी ने फलाहार पर कहा कि पुलिसवालों तक मोहब्बत का संदेश लेकर गए थे, ताकि स्पष्ट हो सके कि एएमयू छात्र बवाली नहीं हैं. हमारा आंदोलन मांग पूरी होने तक जारी रहेगा. धरने में देश-विदेश से समर्थक भी पहुंच रहे हैं.

साथ ही एएमयू छात्रसंघ ने पीएम-सीएम और मानव संसाधन विकास मंत्रालय को संविधान की कॉपी भेजते हुए सवाल किया है कि यूनिवर्सिटी में आरएसएस की शाखा जरूरी है या संस्थान का स्थायित्व?

Loading...