केरल बीते 100 सालों की सबसे बड़ी बाढ़ का सामना कर रहा है। बाढ़ से उपजे बुरे हालात में पीड़ितों की मदद के लिए अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय आगे आया है। एएमयू के छात्र बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए चंदा जमा कर रहे हैं। तो साथ ही जेएन मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों को भेजने की तैयारी की जा रही है।

एएमयू छात्र संघ के निवर्तमान अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा पर्याप्त सहायता नहीं दिया जा रहा है। सरकार को चाहिए कि नुकसान का आकलन कर उसके हिसाब से मदद करें। उन्होंने कहा कि देश के प्रत्येक नागरिक की भी जिम्मेदारी बनती है। वह शिक्षक, कर्मचारी एवं छात्रों से दिल खोलकर मदद करने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि प्रत्येक हॉल में रूम वाइज चंदा कलेक्शन किया जा रहा है। फैकल्टी में भी चंदा संग्रह किया जाएगा ताकि अधिक से अधिक मदद कर सकें। एएमयू छात्रों की गैर सरकारी संगठन सोच द्वारा भी मदद के लिए प्रयास किया जा रहा है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

screenshot 1

वहीं आरडीए अध्यक्ष डॉ. अब्दुल्लाह आजमी ने बताया कि जीबीएम में बाढ़ पीड़ितों की मदद का निर्णय लिया गया है। यहां से डॉक्टरों की टीम जाएगी। इस संबंध में सोमवार को कुलपति से बात करेंगे। बाढ़ पीड़ितों को चिकित्सा, दवा के अतिरिक्त बेसिक सुविधाएं देने का प्रयास करेंगे।

एएमयू कुलपति प्रो. तारिक मंसूर ने भी सभी से बाढ़ पीड़ितों की मदद करने की अपील की है। उन्होने बताया, चंदा संग्रह करने के लिए अलग से बैंक एकाउंट खोलने की योजना है ताकि पारदर्शिता बनी रहे।

Loading...