राजस्थान के अलवर जिले में कथित गौरक्षा के नाम पर की गई मुस्लिम युवक की पीट-पीट कर हत्या कर देने के मामलें की जांच के लिए दिल्ली से आए मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं ने शेष पीड़ितों से मुलाकात की.

इस दौरान सीपीआईएम की पोलित ब्यूरो सदस्य एवं पूर्व सांसद सुभाषिनी अली ने कहा कि बहरोड़ में जो कुछ घटित हुआ, वह ठीक नहीं था. एेसी घटनाओं से समाज पर विपरीत असर पड़ता है. किसी को गोतस्कर साबित करने से पहले पुलिस को जयपुर नगर निगम से उस दिन बिक्री हुए जानवरों से संबंधित कागजात लेने चाहिए थे. उन्होंने आगे कहा कि पहलू खान के परिवार को मुआवजा और उनके पुनर्वास की जिम्मेदारी राज्य सरकार उठाए.

प्रतिनिधिमण्डल में शामिल त्रिपुरा सांसद शंकर प्रसाद दत्ता, पश्चिम बंगाल के सांसद बादुदुजा खान, पूर्व विधायक अमराराम, सुमित्रा चौपड़ा आदि ने जिला कलक्टर से मुलाकात भी की. प्रतिनिधिमण्डल ने उनसे पीडि़तों का पैसा व सामान वापस लौटाने, मृतक परिवार को उचित मुआवजा सहित दोषियों की गिरफ्तारी की मांग की.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पूर्व सांसद सुभाषिनी अली ने बताया कि जब वे कलक्टर से मिलने पहुंचे तो वे भी छूटते ही बोले कि बहरोड़ में जो हुआ गलत हुआ. उन्होंने माना कि जो लोग गायों को ले जा रहे थे, उनके पास उनकी रसीदें थी. उन्होंने जिला कलेक्टर से हिन्दू चौकी लगाने वालों के खिलाफ भी सख्त कानूनी कारवाई करने की भी मांग की.

Loading...