यूपी चुनाव से ठीक पहले समाजवादी पार्टी के नेता अतीक अहमद ने यूपी चुनावों से पहले एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि अगर अखिलेश यादव नहीं चाहते हैं तो वे चुनाव नहीं लड़ेंगे. इसी के साथ अतीक अहमद ने अपना नाम भी वापस ले लिया है.

अतीक अहमद ने कहा, ”अगर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव उनकी छवि के कारण उन्हें चुनाव नहीं लड़वाना चाहते हैं तो वह बोझ नहीं बनेंगे और चुनाव नहीं लड़ेंगे.” अतीक ने आगे कहा, मीडिया ने बाहुबली और माफिया कहकर हमारी इतनी छवि खराब कर दी है कि अगर अखिलेश ने हमें टिकट दिया तो उनसे पूछा जाएगा कि मा‌फिया को टिकट क्यों ‌दिया. उन्होंने कहा, हमें बाहुबली और माफिया बना रखा है और मीडिया को संगीत सोम जैसे नेता नहीं दिखाई दे रहे.

उन्होंने आगे कहा, उन पर उंगली न उठे इसलिए मैं त्याग कर रहा हूं क्योंकि अखिलेश की छवि साफ-सुथरी है. ये छव‌ि बहुत मुश्किल से बनती है. हम चाहते हैं कि उनसे कोई ऐसा-वैसा सवाल न हो. अतीक ने कहा क‌ि हमें कोई विधानसभा लड़ने की बीमारी नहीं कि चुनाव न लड़ा तो बुखार आ जाएगा. इस वक्त साम्प्रदायिक ताकतों को रोकना बेहद जरूरी है.। मैं मुख्यमंत्री से कहूंगा कि किसी और को चुनाव लड़वा लें.

अतीक ने कहा, हमारी कोशिश है कि एक भी वोट खराब न हो, सेकुलर वोट न बंटे. मीडिया ने मुझे घेर रखा है इसीलिए कुर्बानी दे रहा हूं और ये बहुत छोटी कुर्बानी है. हालांकि इस बारे में समाजवादी की तरफ से कोई बयान सामने नहीं आया है.

यूपी विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान में अब सिर्फ कुछ ही दिन बचे हैं. ऐसे में टिकट बंटवारे में मुलायम और अखिलेश खेमे में जिन नामों पर रजामंदी नहीं बन रही थी उनमें एक नाम अतीक अहमद का भी है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें