akhileshyadav6-khwd-621x414livemint

उत्तर प्रदेश विधान सभा के इस आखिरी सत्र में अखिलेश सरकार ने गुरुवार को सदन में बिल पास कर 17 पिछड़ी जातियों को दलित कोटे में शामिल किया हैं.

कैबिनेट के बिल के बाद 17 ओबीसी जातियों को अब दलित कोटे में आरक्षण मिलेगा. इन जातियों में कहार, कश्यप, केवट, निषाद, बिंद, भर, प्रजापति, राजभर, बाथम, गौर, तुरा, मांझी, मल्लाह, कुम्हार, धीमर, गोडिया और मछुआ शामिल हैं. इन सभी जातियों में एक भी मुस्लिम जाति नही हैं.

इससे पहले भी सपा सरकार ने ये फैसला उस वक्त भी लिया गया था जब मुलायम सिंह यूपी के मुख्यमंत्री थे. लेकिन केंद्र ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था.

सीएम अखिलेश यादव के इस फैसले को बसपा प्रमुख मायावती ने जनता के साथ धोखा बताते हुए कहा कि “बीएसपी ने यह प्रस्ताव पहले ही भेजा था। ओबीसी को एससी में डालना धोखा है, इससे दलित कोटे का दायरा बढ़ेगा।”


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें