अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने सुप्रीम कोर्ट की और से अयोध्या मामलें में आपसी बातचीत के जरिए विवाद का हल निकाले जाने की सलाह का स्वागत किया हैं. हालांकि अखाड़ा परिषद ने पुरे विवाद से राजनीतिक दलों को दूर रखे जाने की वकालत की हैं.

परिषद का कहना है कि वह मामले से जुड़े दोनों पक्षों को साथ लाने के लिए तैयार है. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने द टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में बताया कि परिषद चाहती है कि अयोध्या में जबरन मंदिर बनाए जाने के बजाए इस मुद़्दे का हल बातचीत के सहारे निकले.

निरंजनी अखाड़ा प्रमुख गिरी ने कहा कि हिंदुओं और मुस्लिमों की रजामंदी के बिना विवादित स्थल पर मंदिर या मस्जिद, कुछ भी बनाए जाने से असंतुष्ट धड़े के बीच नाराजगी फैलेगी. उन्होंने कहा, ‘हम मानते हैं कि यह मुद्दा तभी हल हो सकता है, जब राजनीतिक दलों को इससे दूर रखा जाए.’

गिरी ने बताया कि इस मामले के सबसे पुराने वादी हाशिम अंसारी से मई 2016 में बातचीत शुरू की थी. लेकिन कोई समझोता होता उससे पहले ही 20 जुलाई 2016 को अंसारी का निधन हो गया. गिरी ने कहा, ‘हाशिम मेरे लिए पिता समान थे। हम दोनों ही मंदिर मुद्दे को अपना अधिकार छोड़े बिना बातचीत के जरिए सुलझाने में लगे हुए थे.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?