अजमेर: सुल्तान-ए-हिन्द के 805वें उर्स का पूरी शानों-शौकत के साथ हुआ आगाज

प्रसिद्ध अजमेर शऱीफ स्थित हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती (रह.) का 805वें उर्स का आगाज पूरी शानों-शौकत के साथ हो गया हैं. दुनिया भर में  ख्वाजा साहब की दरगाह को आपसी प्रेम और भाईचारा का मर्कज माना जाता हैं.

उर्स की शुरुआत के साथ ही आज तड़के दरगाह मजार स्थित जन्नती दरवाजे को खोल दिया गया. देर रात से ही दरवाजा खुलने का हजारों ज़ायरीन इंतजार कर रहे थे. दरवाजा खुलने के साथ ही अलसुबह जायरीनो की भारी भीड़ जन्नती दरवाजे से गुजरने लगी.

ज़ायरीन की भारी संख्या को देखते हुए जन्नती दरवाज़े के आस पास रस्सियां बांधकर भीड़ को रोका गया है. उर्स के दौरान अजमेर शरीफ में लाखों जायरीन पहुंचे हुए हैं. अजमेर शरीफ में पहुंचने के लिए भारत सरकार की तरफ से दर्जनों उर्स स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं है.

रजब माह का चांद दिखने के साथ ही ख्वाजा साहब का उर्स शुरू हो जाता हैं. उर्स की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर से ख्वाजा साहब के दरबार में चादर पेश होने लगी हैं. पहले दिन पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की तरफ से दरगाह शरीफ पर चादर पेश करने के लिए अजमेर भेजा गया है.

विज्ञापन