Saturday, July 24, 2021

 

 

 

अजमेर दरगाह बम ब्लास्ट मामलें में आज आएगा फैसला, असीमानंद सहित सात आरोपी को हो सकती हैं सज़ा

- Advertisement -
- Advertisement -

9 साल पहले अजमेर की हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन अजमेरी (रह.) की दरगाह में हुए बम-ब्लास्ट मामलें में आज जयपुर की नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी (एनआईए) स्पेशल को फैसला सुनाएगी. इस ब्लास्ट में 3 लोगों की जान चली गई थी और 15 लोग घायल हो गए थे.

दरगाह परिसर में आहता ए नूर पेड के पास 11 अक्टूबर 2007 को हुए बम विस्फोट मामले में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े हिंदूवादी संगठनों के 13 लोग इस मामले में आरोपी हैं. स्वामी असीमानंद, देवेंद्र गुप्ता, चंद्रशेखर लेवे, मुकेश वासनानी, लोकेश शर्मा, हर्षद भारत, मोहन रातिश्वर, संदीप डांगे, रामचंद कलसारा, भवेश पटेल, सुरेश नायर और मेहुल इस ब्लास्ट केस में आरोपी हैं. एक आरोपी सुनील जोशी की हत्या हो चुकी है. वहीं आरोपियों में से संदीप डांगे और रामचंद कलसारा अभी तक गायब हैं.

अदालत 25 फरवरी को इस मामले में फैसला सुनाने वाली थी. मगर, दस्तावेजों और बयानों को पढ़ने और फैसला लंबा होने के कारण लिखने में समय लगने की वजह से अदालत ने फैसला सुनाने के लिए 8 मार्च की तारीख तय की थी. इस मामले में 184 लोगों के बयान दर्ज किए गए थे जिसमें 26 अहम गवाह अपने बयान से मुकर गए थे. चार्जशीट के अनुसार, आरोपियों ने वर्ष 2002 में अमरनाथ यात्रा और रघुनाथ मंदिर पर हुए हमले का बदला लेने के लिए अजमेर शरीफ दरगाह और हैदराबाद की मक्का मस्जिद में बम ब्लास्ट की साजिश रची थी..

स्फोट के बाद पुलिस को तलाशी के दौरान एक लावारिस बैग मिला था, जिसमे टाइमर डिवाइस लगा जिंदा बम रखा था. पुलिस ने ब्लास्ट की जगह से 2 सिम कार्ड और एक मोबाइल बरामद किया था. सिम कार्ड झारखंड और पश्चिम बंगाल से खरीदे गए थे. राज्य सरकार ने मई 2010 में मामले की जांच राजस्थान पुलिस की एटीएस शाखा को सौंपी थी. बाद में एक अप्रैल 2011 को भारत सरकार ने मामले की जांच एनआईए को सौप दी थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles