galib

galib

जम्मू-कश्मीर बोर्ड के 12वीं कक्षा के परिणाम जारी हो चुके है. हालांकि इस बार ये परिणाम अफजल गुरु के बेटे ग़ालिब गुरु की वजह से सुर्ख़ियों में है.

दरअसल, मेडिकल एंट्रेंस की तैयारी कर रहे ग़ालिब ने 500 में कुल 441 नंबर प्राप्त कर बड़ी कामयाबी हासिल की है. ग़ालिब को सभी विषयों में डिस्टिंक्शन भी मिली है. ध्यान रहे गालिब ने 10वीं में 95 फीसदी अंक हासिल किए थे. वह उस वक्त बोर्ड का सेकंड टॉपर थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अपने पिता को मिली फांसी पर ग़ालिब का कहना है कि उसके पिता के साथ नाइंसाफी हुई है. इस वजह से ग़ालिब किसी भी राजनेता से नहीं मिलना चाहता है. पीएम मोदी और राहुल गांधी से मिलने पर ग़ालिब का कहना है कि वह किसी भी राजनेता से नहीं मिलेगा.

देश की न्यायिक व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए ग़ालिब ने कहा कि ‘अगर हमारे देश की न्यायिक व्यवस्था बेहतर होती तो अब्बू को राहत मिलती. दूसरी बात कि हमें फांसी से पहले एक मुलाकात मिलती. वह भी नहीं मिली. इससे साफ दिखता है कि हमारे साथ अन्याय हुआ है. तीसरी बात अब्बू का नंबर 21 था फांसी में, पहले उसे क्यूं लाया गया.’

ध्यान रहे 10 फरवरी 2013 को जिस वक्त अफजल गुरु को फांसी दी गई, उस वक्त गालिब की उम्र 12 साल थी. अफजल गुरु को तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की और से दया याचिका खारिज किये जाने के बाद फांसी दी गई थी.

Loading...