hindustan-withdraw-november-outside-gurgaon-standing-november_486470ea-b005-11e6-a9a7-656025b680d0

देहरादून | नोट बंदी हुए एक महीना बीत चूका है. लेकिन अभी भी लोगो को राहत नही मिली है. पिछले महीना तो किसी तरह कट गया लेकिन इस महीने की शुरुआत में ही लोगो को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. चूँकि इस हफ्ते लगभग सभी लोगो का वेतन बैंक में आ चूका है इसलिए हर कोई बैंक से पैसे निकालने के लिए दौड़ रहा है. इसी वजह से हर बैंक और एटीएम के सामने आपको लम्बी लम्बी दिखाई दे रही है.

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून भी इससे अछूता नही है. इस महीने की एक तारीख से अब तक रोज बैंक और एटीएम के सामने लाइन लम्बी होती जा रही है. बैंक और एटीएम के सामने लोगो का जमावडा है जबकि अन्दर सुखा पड़ा हुआ है. न बैंक के पास कैश है और न एटीएम के पास. लेकिन फिर भी लोग इसी आश में बैंक और एटीएम के सामने खड़े रहते है की जल्द ही कैश आ जायेगा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

देहरादून के दो बड़े बैंक एसबीआई और पीएनबी भी इससे अछूते नही है. चाहे सहारनपुर चौक हो या घंटाघर , हर जगह बैंकों के सामने लाइन लगी हुई है. दरअसल ज्यादातर प्राइवेट कंपनियों के वेतन बैंक में आ चुके है. ज्यादा लम्बी लाइन होने की वजह से जल्दी ही कैश खत्म हो रहा है. सहारनपुर चौक पर स्थित एसबीआई बैंक के मेनेजर विनय कुमार खत्री ने बताया की वेतन आने की वजह से लोग बैंक से कैश निकालने के लिए उमड़ रहे है.

विनय कुमार के अनुसार कैश चेस्ट से जो भी कैश आ रहा है वो जल्द ही खत्म हो जाता है. बैंक के सामने लगे कुछ लोगो ने बताया की 24 हजार की लिमिट होने के बावजूद बैंक उन्हें दो या तीन हजार से ज्यादा पैसे नही दे रहा है. अगर एसबीआई और पीएनबी जैसे बड़े बैंक में पैसा नही है तो छोटे बैंक के हालात कैसे होंगे , इसका अंदाजा आप लगा सकते है.

Loading...