जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के दूसरे दिन वरिष्ठ पत्रकार सईद नकवी ने अपनी किताब ‘बीइंग द अदर : द मुस्लिम इन इंडिया’ को लेकर चर्चा की. उन्होंने किताबों के अंशों का उल्लेख करते हुए कहा कि आजादी के दौरान नेताअों ने मुसलमानों से झूठ बोला था. उन्होंने कहा भारत में हिंदू राज के लिए पाकिस्तान को बनाया गया था. इसमें गांधी और नेहरु भी शामिल थे.

उन्होंने आगे कहा कि ‘जब आप देश को बांट रहे थे तो ढकोसला क्यों किया. सीधे हिंदू राष्ट्र बनाते और साफ कहते, 800 साल मुसलमानों की हुकूमत हो गई, 200 साल अंग्रेजों ने राज कर लिया. पाकिस्तान बन ही रहा है. अब यह हिंदू राज होगा’. उन्होंने आजादी के दौरान सेकुलर भारत बनाने के मुसलमानों के साथ किये गये सभी वादों को झूठा करार दिया.

नकवी ने कहा कि आजादी के बाद सबके मन में एक ही बात थी, हिंदू राज. इसमें गांधी और नेहरू भी शामिल थे. वे अलग नहीं थे. सबने सोच-समझ कर एक मुस्लिम राष्ट्र बना दिया गया, क्यों बना दिया गया? जो इतिहास हम पढ़ते रहे हैं, उसकी कहानी कुछ और है. इस किताब का मकसद यही है कि आप उस इतिहास को फिर से देखिए.

मौजूदा हालात में देश में मुसलामानों को नाखुश बताते हुए कहा कि बके दिमाग में था भारत में मुसलमान खुश होगा और हिंदुस्तान में मुसलमान भी रहेंगे और बराबरी से रहेंगे. राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति बनेंगे. लेकिन स्टीयरिंग व्हील हिंदुओं के हाथ में होगी. जब भी संपूर्ण भारत की बात होती थी, जवाहरलाल नेहरू मना कर देते थे. तीन बार उन्होंने ऐसा किया. गांधीजी को भी जिन्ना पसंद नहीं थे.

इसी के साथ नकवी ने कहा यह बात सही है कि पिछले कुछ सालों में सांप्रदायिक तनाव बढ़ा है. 30 फीसदी वोट पाकर इन्हें बहुमत मिला है. यह चाह रहे हैं कि इस बहुमत को मजबूत कर लें, लेकिन इन्हें मुसलमानों से नफरत नहीं है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें