शराबबंदी की सफलता के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक और मुहीम शुरू कर दी हैं. उनकी ये मुहीम  दहेज प्रथा और बाल विवाह के ख़िलाफ़ शुरू की गई हैं. उन्होंने जनता से इन कामों से दूर रहने की अपील की हैं.

शुक्रवार को पटना में अंबेडकर जयंती पर जनता दल (यूनाइटेड) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में नीतीश ने उपस्थित दलित समुदाय के लोगों से कहा कि दहेज़ प्रथा के खिलाफ अभियान अब उनकी प्राथमिकता हैं. उन्होंने कहा, ‘ऐसी शादियों में मत जाइए, जहां आपको पता चल गया कि दहेज लिया गया है। हम दहेज लेकर विवाह करने के चलन को रोकना है.’

नीतीश ने आगे कहा, जातियों के आधार पर जो भेदभाव हैं, उसे समाप्‍त करना है. इसके लिए सबसे बड़ी चीज है कुरीतियों को न अपनाएं.. दहेज़ प्रथा की तरफ हमें नहीं जाना है. नीतीश ने दलित समुदाय के लोगों से कहा कि संकल्प लीजिए शिक्षित बनो, संगठित हो और संघर्ष करो.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने एक बार फिर 2019 में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर देश में पूर्ण शराबबंदी लागू करने की मांग की. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अभी से इस पर तैयारी करनी चाहिए। तभी जाकर यह 2019 तक संभव हो पाएगा.

Loading...