hyderabad 620x400

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक तस्वीर बड़े पैमाने पर वायरल हो रही है. जिसमे कुछ दस्तावेजों के साथ एक पॉलीथिन में नोटों के बंडल बंध कर लगाए हुए है. ये दस्तावेज ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी (आरटीए) कार्यालय के बताए जा रहे है.

सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर इस तस्वीरों को ‘यूनाइटेड फेडरेशन ऑफ रेसिडेन्ट्स वेलफेयर एसोसिएशन’ के सचिव बीटी श्रीनिवासन ने डाला है. जिसमे उन्होंने दावा किया कि किसी ने पटनचेरू आरटीओ कार्यालय की यह तस्वीरें मेरे फेसबुक पेज पर डाला है. इसमें ड्राइविंग लाइसेंस, नई गाड़ियों के पंजीकरण और नवीनीकरण संबंधी कागजात हैं. आवेदनों के साथ रिश्वत भी नत्थी है.

इन तस्वीरों के सामने आने के बाद हडकंप मच गया. जांच में सामने आया कि इन तस्वीरों को ‘यूथ फॉर एंटी करप्शन’ नाम के एक गैर सरकारी संस्था के सदस्यों ने खींची है. दरअसल इनमें से एक आवेदक ने ‘यूथ फॉर एंटी करप्शन’ से इस बात की शिकायत की थी कि सभी जरुरी योग्यताएं और कागजात होने के बावजूद पिछले करीब दो महीनें से उसकी फाइल आरटीओ ऑफिस में अटकी पड़ी है.

2000

बीते मंगलवार (8 मई) को जब इस शिकायत के सिलसिले में एनजीओ की टीम के सदस्य आरटीओ दफ्तर पहुंचे तो वहां कई सारे ऐसे आवेदन रखे हुए थे जिनमें पैसों का बंडल लगा हुआ था. यह भी खुलासा हुआ है कि रिश्वत की मांग दफ्तर के कर्मचारियों ने नहीं बल्कि दलालों ने की है.

आरटीए प्रबंधन ने इस मामले में जांच बैठा दी है. आरटीए की और से कहा गया कि यह तस्वीरें आरटीए दफ्तर के अंदर की नहीं हैं. तस्वीर में दिख रहा टेबुल, फर्श और दूसरी चीजें पटनचेरू स्थित दफ्तर की नहीं लग रही हैं.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें