राजस्थान के दौसा में बड़ा दर्दनाक हादसा सामने आया है। साण्डेराव कस्बे में अंडरग्राउण्ड गैस पाइप लाइन बिछाने के दौरान एक 80 फीट का पाइप तेज गति से आ रही बस में घुस गया। इस हादसे में दो लोगों की मौत हो गई। जबकि 13 अन्य घायल हो गए।

जानकारी के अनुसार, सांडेराव के निकट हाइवे किनारे अंडरग्राउण्ड पाइप लाइन बिछाने का काम चल रहा है। यहां हाइड्रो मशीन से पाइप बिछाए जा रहे हैं। इस दौरान हाईड्रोलिक मशीन चालक लापरवाही करते हुये करीब 80 फीट के पाइप को बिना इधर-उधर देखे सड़क पर ले आया। इसी बीच तेज से गति से जा रही एक निजी बस में वह पाइप घुस गया और उसे पूरी तरह से चीर दिया।

पाइप से बस की ड्राइवर साइड पूरी साफ हो गई। हादसे में बस में सवार एक यात्री की गर्दन कट गई और एक का सिर पूरी तरह से फट गया। इन दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। करीब एक दर्जन यात्री गंभीर रूप से घायल हो गये। सूचना पर सीओ सुमेरपुर रजत विश्नोई, सांडेराव थानाधिकारी धोलाराम परिहार मौके पर पहुंचे। घायलों को सांडेराव अस्पताल लाया गया, जहां से तीन गंभीर घायलों को पाली रैफर कर दिया गया।

हादसे में भंवर लाल निवासी ईसाली व मैना देवी पत्नी दीपाराम देवासी इसाली की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि चुन्नीलाल निवासी बडीसा, नीलम, भुण्डाराम निवासी सेखावास, कमला निवासी निवासी बाबा गांव, सूजाराम निवासी चिरपटिया, रानी, किरण, भारती, देवी, अम्बालाल निवासी केसरगढ़ सहित 13 जने घायल हो गए।

पुलिस का कहना है कि मौके पर टोल कम्पनी ने यातायात एक तरफा नहीं करवाया था, इस कारण हादसा हुआ। पुलिस ने चार दिन पहले ही इसी कम्पनी के जेसीबी व ट्रैक्टर को हाइवे पर बेतरतीब खड़े रहने के कारण जब्त किया था, बावजूद इसके कम्पनी लापरवाही बरत रही थी।