Tuesday, October 26, 2021

 

 

 

कोयंबटूर में 3000 दलित हिन्दू धर्म को त्यागकर बनेंगे मुसलमान, लगाया भेदभाव का आरोप

- Advertisement -
- Advertisement -

कोयंबटूर: हिंदू धर्म में दुर्व्यवहार का हवाला देते हुए नादुर के दलितों ने ने घोषणा की है कि वे इस्लाम धर्म को अपना लेंगे। मेट्टुपालयम में आयोजित राज्य स्तरीय बैठक में निर्णय लिया गया। इस बैठक में करीब 3000 दलितों ने कहा कि वह हिन्दू धर्म छोड़ मुसलमान बन जाएंगे। तमिल पुलिगल काची के महासचिव एम इलावेनिल ने बैठक की अध्यक्षता की।

नादुर में दीवार गिरने की घटना का हवाला देते हुए, संगठन के सदस्यों ने कहा कि एससी / एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत कार्रवाई करने का प्रावधान होने के बावजूद, घर के मालिक शिवसुबमन के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया गया।

आरोप है कि शिवसुब्रमण्यम ने एक भेदभावपूर्ण मकसद के साथ दीवार का निर्माण किया। जिसके कोई खंभे नहीं थे। उन्होंने अपने घर को पास में रहने वाले दलितों से अलग करने के लिए दीवार बनवाई थी। भेदभाव का हवाला देते हुए, हम अधिकारियों से शिवसुब्रमण्यन पर दर्ज मामले को बदलने और एससी / एसटी अधिनियम के तहत मामला दर्ज करने की मांग कर रहे हैं। लेकिन राज्य सरकार ने इस मामले में अब तक कोई बदलाव नहीं किया है।

संगठन के अध्यक्ष नागाई थिरुवल्लुवन ने कहा, “त्रासदी के लिए जिम्मेदार व्यक्ति को गिरफ्तारी के 20 दिनों के भीतर जमानत पर रिहा कर दिया गया था। लेकिन तिरुवल्लुवन जिन्होंने न्याय की मांग करते हुए लोकतांत्रिक तरीके से विरोध प्रदर्शन किया, उन्हें कोयम्बटूर जेल में बंद कर दिया गया। यह धर्म में असमानता को प्रदर्शित करता है।

यह दावा करते हुए कि दलितों का धर्म में बुरा व्यवहार किया जा रहा है, इलवेनिल ने कहा कि उनकी पार्टी के सदस्यों के साथ-साथ नादुर के लोगों ने इस्लाम में धर्मांतरण का फैसला किया है।

उन्होंने कहा, “पहले चरण के दौरान मेट्टुपालयम में 5 जनवरी को 100 लोग इस्लाम में परिवर्तित हो जाएंगे,” उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया को अन्य जिलों में कदम से कदम मिलाकर चलाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles