3 साल की बच्ची से दरिंदगी के बाद उबल पड़ा कश्मीर, महबूबा मुफ्ती बोलीपत्थर मारकर हो मौ’त की सजा

5:48 pm Published by:-Hindi News

राजस्‍थान के अलवर में एक दलित महिला से सामूहिक दुष्‍कर्म का मामला शांत भी नहीं हुआ कि जम्‍मू एवं कश्‍मीर में 3 साल की मासूम के साथ दरिंदगी की वारदात सामने आई है। मामले के खिलाफ अब कश्मीर घाटी उबल पड़ी है। बांडीपोरा से श्रीनगर तक प्रदर्शन हो रहे हैं।

घटना बांदीपोरा जिले की है। सुंबल दुष्कर्म कांड को लेकर पूरी वादी में शुरु हुए हिंसक प्रदर्शनों  के बीच साेमवार को प्रशासन ने पूरे मामले की फास्ट ट्रैक जांच का यकीन दिलाते हुए लाेगों से संयम और सदभाव बनाए रखने की अपील की है। पुलिस ने भी आरोपित को नाबालिग बताने का तथाकथित फर्जी प्रमाणपत्र जारी करने वाले स्कूल प्रिंसिपल को भी पूछताछ के लिए तलब किया है।

वारदात के बाद इसकी निंदा करते हुए पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती ने ट्विटर पर लिखा, ‘मैं सुंबल में 3 साल की बच्ची के साथ हुई रेप की घटना की खबर सुनकर स्तब्ध हूं। किस तरह की बीमार मानसिकता के लोग ऐसी वारदातों को अंजाम देते हैं। समाज अक्सर ऐसी वारदातों के लिए महिलाओं के आवांछित निमंत्रण को दोषी कहता है कि लेकिन क्या यह सच में उस मासूम की गलती थी। आज ऐसे वक्त में शरिया कानून के अनुसार, ऐसे काम करने वालों को पत्थर मारकर मौत की सजा देनी चाहिए।’

वहीं हुरिर्यत नेता मीरवायज उमर ने लोगों से एकता बनाए रखने को कहा है। उन्होंने कहा कि कुछ तत्व ऐसे हैं जो समाज को बांटने का काम कर रहे हैं और ऐसे तत्वों से सजग रहने की आवश्यकता है। जामिया मस्जिद के मुख्य मौलवी मीरवायज ने कहा कि कश्मीर आरोपी के लिए कड़ी सजा की मांग करता है पर साथ ही लोगों को सचेत रहना होगा कि कोई उन्हें बांट न पाए। उन्होंने कहा कि एक बच्ची के साथ बर्बरता की गई है और यह गुनाह है।

जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट के चेयरमैन शाह फैसल ने कहा कि दुष्कर्म आरोपित को सजा-ए-मौत होनी चाहिए। आरोपित की उम्र पर उन्होंने कहा कि जहां तक उनको पता है कि आरोपित को नाबालिग बताने वाला प्रमाणपत्र फर्जी है। उसे व्यस्क माना जाए और फांसी दी जाए।

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने तीन वर्षीय मासूम के साथ हुए दुष्कर्म की कड़े शब्दों में निंदा की है। पुलिस को दोषी को पूरी तरह चिह्न्ति करते हुए उसके खिलाफ एक ऐसा मामला बनाना चाहिए कि वह बच न सके। पुलिस को दोषी को कठोर दंड सुनिश्चित बनाना चाहिए, ताकि दोबारा इस तरह का कोई जघन्य अपराध न हो।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें