केरल की पट्टनमिट्टा लोकसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार के सुरेंद्रन पर एक नहीं दो नहीं बल्कि पूरे 242 क्रिमिनल केस चल रहे हैं। सुरेंद्रन पर जो 242 केस चल रहे हैं उनमें से 222 तो सबरीमाला आंदोलन के दौरान दर्ज हुए थे।

भाजपा के मुखपत्र जन्मभूमि में उन्होंने इन आपराधिक मामलों के बारे में ब्योरा दिया है। जिसमें चार पेज लग गए। पार्टी को अपने टीवी चैनल जनम टीवी पर सुरेंद्रन के आपराधिक मामलों का ब्योरा देने में 60 सेकेंड का समय लगा। जबकि अन्य उम्मीदवारों के बारे में ब्योरा देने में केवल सात सेकेंड का समय लगा।

दरअसल, चुनाव आयोग ने प्रत्याशियों को निर्देश दिए हैं कि वह अपने खिलाफ लंबित मामलों के बारे में प्रिंट और टीवी पर तीन बार विज्ञापन दें। पार्टी के एक आधिकारिक सूत्र ने बताया, ‘यदि किसी दूसरे अखबार के केवल एक संस्करण में उनके ब्योरे के बारे में विज्ञापन दिया जाता तो उसका खर्च करीब 60 लाख रुपये आता। टीवी पर इसका खर्च और ज्यादा आता।’

bjp

केरल बीजेपी के प्रवक्ता एमएस कुमार कहते हैं, सबरीमाला मुद्दे को लेकर सुरेंद्रन के खिलाफ दर्ज मामले कानून के दायरे में नहीं आते। इसके अलावा ज्यादातर केस चुनाव से ठीक पहले ही दर्ज हुए हैं, ऐसे में उन्हें इनके खिलाफ लड़ने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाया है।

बता दें कि पिछले साल दिसंबर में सुरेंद्रन को सबरीमाला आंदोलन के दौरान 22 दिनों के लिए जेल भेज दिया गया था। राज्य सरकार ने हाई कोर्ट को जानकारी दी थी कि उनपर 242 क्रिमिनल केस दर्ज हैं जिसके बाद सुरेंद्रन ने एकबार फिर सही जानकारियों के साथ फिर से नामांकन किया।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें