Thursday, January 27, 2022

तहरीक उलमा ए हिंद के तत्वाधान में आयोजित किए गए 2 मोटीवेशनल और 1 स्वागतीय कार्यक्रम

- Advertisement -

बाड़मेर। यहां सिणधरी चौराहा स्थित सिंधी मुस्लिम छात्रावास में तहरीक उलमा ए हिंद के तत्वाधान में प्रथम तथा रेल्वे कुंवा नम्बर 3 में स्थित दारुल उलूम जियाउल मुस्तफा में द्वितीय मोटिवेशनल कार्यक्रम आयोजित किया गया जिनमें जयपुर से पधारे हुए प्रसिद्ध इस्लामिक स्कॉलर तथा तहरीक उलमा ए हिंद के चेयरमैन मुफ्ती खालिद अयूब मिस्बाही ने छात्रों को शिक्षा का महत्व, नए युग में उसके अवसर, शिक्षा को समाज सेवा से जोड़ना जरूरी क्यों है? इसके मौलिक कारण और पढ़ी हुई बातों को याद कैसे रखा जाता है? इसके प्रति विज्ञानिक टिप्स बतलाए।

मुफ्ती साहब ने बताया कि मनुष्य का दिमाग किसी भी चीज को दो प्रकार से याद रखता है: (1) लेफ्ट ब्रेन में, (2) राइट ब्रेन में। लेफ्ट ब्रेन की रिकालिंग शक्ति दस प्रतिशत जबकि राइट ब्रेन की नव्वे प्रतिशत है। हम जिन चीजों को फोटो के रूप में देखते हैं, वो राइट ब्रेन में महफूज होती हैं जबकि टेक्स्ट बुक के रूप में पढ़ी जाने वाली चीजें लेफ्ट ब्रेन में सुरक्षित होती हैं। यदि हम किसी चीज को लंबे समय तक याद रखना चाहते हैं तो हमें चाहिए कि हम उस वस्तु को पिक्चर फॉर्मेट में कन्वर्ट करने की कोशिश करें। प्रारंभ में ऐसा कर पाना थोड़ा मुश्किल होता है पर जैसे-जैसे प्रैक्टिस होती है, यह बहुत आसान हो जाता है और फिर कोई भी चीज हमें बहुत दिनों तक याद रहने लगती है।

मुफ्ती साहब ने इस अवसर पर सोशल मीडिया का सही प्रयोग तथा समय मैनेजमेंट के तरीके भी बताए। दोनों जगहों पर यहां की जामा मस्जिद के पेश इमाम मौलाना कारी लाल मोहम्मद सिद्दीकी की अध्यक्षता और इन हॉस्टलों के जिम्मेदारों की निगरानी रही। कारी लाल मोहम्मद साहब ने बताया कि तहरीक उलमा ए हिंद इससे पहले भी जयपुर, बीकानेर और रतलाम आदि में इस प्रकार के प्रोग्राम आयोजित करती रही है।

कलेक्टर का शाल और माला से किया गया स्वागत

तहरीक उलमा ए हिंद के स्थानीय अध्यक्ष तथा जामा मस्जिद के पेश इमाम मौलाना कारी लाल मोहम्मद सिद्दीकी ने बताया कि तहरीक उलमा ए हिंद के तत्वाधान में तहरीक के चेयरमैन मुफ्ती खालिद अयूब मिस्बाही के बाड़मेर आगमन के अवसर पर जिला कलेक्टर के रूप में पहली बार पद ग्रहण कर नव कलेक्टर नियुक्त हुए अंशदीप जी का माला पहनाकर और शाल ओढ़ाकर तहरीक की ओर से स्वागत किया गया। इस अवसर पर अल्पसंख्यकों के विभिन्न मामलात पर भी विशेष बातें की गईं।

कलेक्टर महोदय ने यकीन दिलाया कि वह अल्पसंख्यकों के हित में हर वह कार्य करेंगे जो उन्हें उचित मालूम होगा तथा उन्होंने बताया कि हमें कोई भी कार्य प्रभावशाली अंदाज में करने के लिए अल्पसंख्यकों का सहयोग चाहिए जिस पर यहां के इस्लामिक धर्मगुरु और इमामों ने अपना हर प्रकार का सहयोग देने का वादा किया। स्वागतीय प्रोग्राम में दारुल उलूम जियाउल मुस्तफा के प्रिंसिपल मौलाना मंठार सिद्दीकी, जामा मस्जिद के नाइब इमाम मौलाना मुख्तार अहमद तथा अन्य सामाजिक रहनुमाओं ने विशेष प्रकार से भाग लिया।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles