छत्तीसगढ़ की रमन सरकार के बीते ढाई सालों में 1,344 किसान आत्महत्या कर चुके है. 2015 से अब तक राज्य के 1,344 किसानों ने मौत को गले लगाया है.

कांग्रेस विधायक अमरजीत भगत ने सवाल किया था कि “छत्तीसगढ़ में वर्ष 2015-16 से 30 अक्टूबर 2017 तक प्रदेश के किस-किस जिले में कितनी संख्या में किसान आत्महत्या के मामले दर्ज हैं.” साथ ही ”इस अवधि में आत्महत्या करने वालों में कितने किसान थे और कितने अन्य लोग”

गृहमंत्री रामसेवक पैकरा की ओर से लिखित जवाब आया कि इस अवधि में प्रदेश में आत्महत्या के 14,705 मामले दर्ज किए गए. उन्होंने बताया, आत्महत्या करने वालों में 1,344 किसान थे और 13,361 अन्य थे.

अमरजीत ने मृतकों के परिजनों को दी गई आर्थिक सहायता के लिए भी सवाल किया. उन्होंने पूछा “इनमें से कितने लोगों ने आर्थिक तंगी और कितने लोगों ने कर्जदारी से पीड़ित होकर आत्महत्या की? सरकार की ओर से इन मृतकों के परिवारों को कितनी-कितनी सहायता राशि दी गई?”

पैकरा ने बताया कि आर्थिक तंगी के कारण 13 और कर्जदारी से पीड़ित होकर 19 व्यक्तियों ने आत्महत्या की. शासन की ओर से 25 मृतकों के परिजनों को 16 लाख 35 हजार 924 रुपए की सहायता राशि दी गई.”

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?