राजस्थान के जोधपुर जिले में पाकिस्तान के हिंदू शरणार्थी परिवार के 11 सदस्यों के शव रविवार सुबह एक खेत में पाये गए। इस परिवार का एक सदस्य जीवित मिला है। वो अपनी झोपड़ी के बाहर पड़ा हुआ था। यह देचू थाने के लोड़ता गांव की घटना है।

एक अधिकारी ने कहा कि “परिवार के एक व्यक्ति को देचू क्षेत्र के लोड़ता गांव में  जीवित पाया गया है।” पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राहुल बारहट ने कहा कि “जीवित पाए गए व्यक्ति ने इस घटना के बारे में कोई अनुमान नहीं होने का दावा किया है।”

बरहाट ने कहा कि हमें मौत की वजह अभी पता नहीं चली है लेकिन ऐसा लग रहा है कि परिवार के सभी सदस्यों ने रात में कोई रसायन खाकर आत्महत्या की है। उन्होंने बताया कि झोंपड़ी के आसपास किसी रसायन की बदबू आ रही थी जिससे लगता है कि उन्होंने कुछ खाया है।

परिवार के सभी सदस्य भील समुदाय के पाकिस्तान के हिंदू शरणार्थी थे और गांव में खेत में रह रहे थे जिसे उन्होंने खेतीबाड़ी के लिए बटाई पर लिया था। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि किसी के भी शरीर पर चोट का कोई निशान नहीं हैं और न ही किसी तरह की साजिश के सबूत हैं लेकिन हमने फॉरेंसिक टीम और श्वान दल बुलाया है।

प्रारंभिक सूचना से पता चला है कि किसी मुद्दे को लेकर परिवार में विवाद था। उन्होंने कहा कि जीवित बचे व्यक्ति से पूछताछ करने के बाद ही हम इस घटना के बारे में कुछ कहने की स्थिति में होंगे। इस घटना में छह वयस्क व पांच बच्चों की मौत हुई है।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन