fansi

रायगढ़: रायगढ़ जिले के सरिया ब्लाक के अंतर्गत आने वाले ग्राम महराजपुर में 500 व 1000 रुपए के नोट बदलने के लिए बैंक में तीन दिन तक लाइन लगाने के बाद भी पैसे नहीं मिलने से परेशान किसान ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली.

परिवार वालों का इस बारे में कहना हैं कि रवि प्रधान के दोनों बेटे दुसरे राज्य में नौकरी कर रहे थे इसी बीच उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया न ही उन्हें उन्जी तनख्वाह दी गई. दोनों बेटों ने इसकी जानकारी अपने पिता को दो दिन पहले फोनकर दी थी और कहा था कि कुछ पैसे उनके एकाउंट में डाल दें ताकि वे वापस घर लौट सके और उनके पास खाने के लिये भी पैसे नही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बेटों को वापस घर लाने के लिए बाद रवि प्रधान और उसकी पत्नी लगातार दो दिनों से सरिया के स्टेट बैंक में जाकर सुबह से ही लाईन लगाते हुए अपने नोटों को बदलने की कोशिश कर रहे थे लेकिन पिछले तीन तक उनके नोट नहीं बदल पाए. परेशान रवि प्रधान कल रात खाना खाकर अपनी पत्नी को दूसरे कमरे में सोने की बात कहकर चला गया. मगर जब आज सुबह करीब नौ बजे पति के दरवाजा नही खोलने पर उसने दरवाजा खटखटाया तो उसने दरवाजा नही खोला.  मजबूरन पड़ोसियों की मदद से दरवाजे को तोडा गया. इस दौरान सभी यह देखकर हैरान रह गये कि रवि ने घर पर ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी.

वहीँ इस मामलें में सरिया पुलिस का कहना है कि बीते कुछ माह से उसकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी. इसी वजह से उसने यह कदम उठाया. सरिया के थाना प्रभारी ने कहा कि किसान ने घर में फांसी लगाकर खुदकुशी की है. मामले की सूचना के बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है.

Loading...