Dadri case: Akhlaq seeking CBI probe will consist of the chief's son Bisahdha eye scandal and the son Danish Iklak will meet Chief Minister Akhilesh Yadav in Lucknow on December 7. The MLC Ashu Malik Danish Muradnagar on December 6, will leave. It's important to make a statement before the police are called. After several attempts to take the statement of the Danish police said. Chief Minister Akhilesh Yadav had earlier met the families of Iklak. The MLC only Shaista Muradnagar, grandmother and brother of Iklak life were to meet Muhammad. Recently met DM Danish and Sartaj his brother had expressed the desire to meet the chief minister. Thanks to help from the Chief Minister had expressed the desire to give. MLC had asked for the meeting at the chief minister. After the green signal from Lucknow six of MLC leaves morning. The chief of the office at 11 am on Monday, December seven got an appointment. According to local MLC Danish expressed a desire to meet with CM. He got an appointment at seven on December 11. However, Sayrabanon the child's family is asked about teaming with CM. His well-being of both the CM introduce Hindustani. Dnkaur scorched by the high tension line from her Sayrabanon meet in Lucknow Chief Minister on December seven. MLC Sayrabanon the family asked her to meet the chief minister if the child is not well, he will be taken simultaneously. The government is counting on us. Are satisfied with the police investigation. The CBI probe would not organically in this village killed during Bisahdha Iklak John's brother Mohammed said. Rajnath Singh in Parliament on Tuesday Bisahdha case statement that the government will make a further investigation of the case by the CBI. Rajnath Singh's statement was his reaction after the death of Mohammed. He will be supported by the CBI after justice. Police have charged ten people. All the accused have been arrested by police. In addition to the ten accused police are watching some people. Some of these names have surfaced in the interrogation of the accused were huge and Shivam. However, police have filed the case. According to sources, the police filed statements of injured Danish said. Jan Mohammad, said Chief Minister Akhilesh Yadav is confident that the matter will be investigated in a transparent manner. Iklak killing was planned. We want an innocent man caught and convicted not to be spared. Senior police officers and administrative investigation Prevent loose. It seems that we are not getting justice we will demand a CBI probe. Just trust us government.

बिसाहड़ा कांड का चश्मदीद और इकलाख का बेटा दानिश 7 दिसंबर को लखनऊ में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात करेगा। मुरादनगर के एमएलसी आशु मलिक 6 दिसंबर को दानिश को लेकर रवाना होंगे।

खास बात ये है कि पुलिस को बयान देने से पहले ये मुलाकात हो रही है। कई बार प्रयास के बाद भी पुलिस दानिश के बयान नहीं ले पाई है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव इससे पहले इकलाख के परिजनों से मुलाकात कर चुके हैं।

मुरादनगर के एमएलसी ही शाइस्ता, दादी और इकलाख के भाई जान मोहम्मद को मिलवाने के लिए गए थे। पिछले दिनों डीएम से मुलाकात में दानिश और उसके भाई सरताज ने भी मुख्यमंत्री से मिलने की इच्छा जाहिर की थी।
उन्होंने मुख्यमंत्री से मदद करने के लिए धन्यवाद देने की इच्छा जताई थी। इस मुलाकात के लिए एमएलसी ने मुख्यमंत्री से वक्त मांगा था। लखनऊ से हरी झंडी आने के बाद अब एमएलसी छह की सुबह रवाना होंगे। मुख्यमंत्री कार्यालय से सात दिसंबर सोमवार को सुबह 11 बजे मिलने का समय मिल गया।

स्थानीय एमएलसी के मुताबिक दानिश ने सीएम से मिलने की इच्छा जताई थी। मुख्यमंत्री से सात दिसंबर को 11 बजे मिलने का समय मिला है।
मंगलवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बिसाहड़ा कांड पर संसद में बयान दिया था कि प्रदेश सरकार चाहे तो मामले की जांच सीबीआई से कराएंगे। राजनाथ सिंह के बयान के बाद ही जान मोहम्मद ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि इंसाफ नहीं मिलने पर सीबीआई की मदद ली जाएगी।

पुलिस ने इस मामले में दस लोगों को आरोपी बनाया है। सभी आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। दस आरोपियों के अलावा भी पुलिस कुछ लोगों पर नजर रखे हैं।
इनमें से कुछ के नाम मुख्य आरोपी विशाल और शिवम से पूछताछ में सामने आए थे। हालांकि, अभी पुलिस को मामले की चार्जशीट दाखिल करनी है। सूत्रों के अनुसार पुलिस हमले में घायल दानिश के बयान लेने के बाद चार्जशीट दाखिल करेगी।

जान मोहम्मद का कहना है कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर विश्वास है कि मामले की जांच पारदर्शी तरीके से होगी। इकलाख की हत्या सुनियोजित तरीके से की गई थी।

हम चाहते हैं कि कोई निर्दोष व्यक्ति ने फंसे और दोषियों को बख्शा न जाए। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी और प्रशासन जांच ढीली न होने दें। यदि हमें ऐसा लगता है कि इंसाफ नहीं मिल रहा हम सीबीआई जांच की मांग करेंगे। अभी हमें प्रदेश सरकार पर विश्वास है।


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें