केंद्र सरकार और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के हलफनामे से साफ़ ज़ाहिर है कि यूनिवर्सिटी की अंतिम वर्ष की परीक्षाएं होंगी। रद्द नहीं होंगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कोर्ट से कहा है कि उसने बड़ी संख्या में छात्रों के “शैक्षणिक हित” को ध्यान में रखते हुए 6 जुलाई, 2020 को अधिसूचना जारी कर विश्वविद्यालयों और संस्थानों द्वारा परीक्षा आयोजित करने की अनुमति दी है। यह फैसला मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा किए गए अनुरोधों और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 10 (2) (1) के तहत जारी किए गए निर्देशों के अनुसार लिया गया है।

दूसरी तरफ UGC ने हलफनामा देकर कहा है कि वह देश भर के विश्वविद्यालयों में अंतिम वर्ष की परीक्षा रद्द करने की मांग वाली याचिकाओं का विरोध करती है।

दिल्ली सरकार और महाराष्ट्र सरकार ने अपने अपने राज्य की यूनिवर्सिटी की अंतिम वर्ष की परीक्षाएँ रद्द करने के फ़ैसले किया है। उसका भी विरोध करती है।

यूजीसी ने कहा है कि विश्वविद्यालयों में परीक्षाओं के आयोजन का काम यूजीसी का है न कि किसी राज्य सरकार का। यूजीसी ने फिर से कहा है कि वह सितंबर तक परीक्षाओं के आयोजन के हक़ में है जो कि छात्रों के भविष्य के हितों के मद्देनज़र सही है ।यूजीसी ने यह भी कहा कि बिना परीक्षा के मिली डिग्री को मान्यता नहीं दी जा सकती। याचिकाकर्ताओं का कहना था कि परीक्षा के आयोजन को लेकर यूजीसी का स्टैंड कोरोना से बचाव पर गृह मंत्रालय की गाइडलाइन से बिल्कुल अलग है।

शुक्रवार को इस मामले की सुनवाई होनी है। सुप्रीम कोर्ट में। गृह मंत्रालय और यूजीसी के रुख़ से साफ़ है कि परीक्षाएं रद्द नहीं होंगी। सुप्रीम कोर्ट का फैसला क्या होगा यह तो कोई नहीं बता सकता लेकिन जब सरकार परीक्षा कराने की ज़िम्मेदारी ले रही हो तो समझा जा सकता है कि परीक्षाएं रद्द नहीं होंगी। इसलिए अपना समय तैयारी में लगाएं। जब कोर्ट का फैसला आएगा तब आएगा। अभी तैयारी करें।

परीक्षा कैंसल नहीं होगी, परीक्षा की तैयारी कीजिए, सरकारी कराएगीकेंद्र सरकार और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के हलफनामे से…

Ravish Kumar ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಗುರುವಾರ, ಆಗಸ್ಟ್ 13, 2020

इसी तरह BHU, NEET, JEE, CLAT की परीक्षा देने वाले भी तैयारी करते रहें। इस उम्मीद में न रहें कि परीक्षा रद्द नहीं होगी। आप लोगों ने ट्विट किया। हमने भी दिखाया और दूसरे अख़बारों और चैनलों ने दिखाया ही होगा। मतलब सरकार को आपकी चिन्ता के बारे में सब पता है। ऐसा नहीं हो सकता है कि आपकी बातें उस तक न पहुंची हो। लेकिन अब सरकार ही परीक्षा कराने पर अड़ी है तो उम्मीद कीजिए कि परीक्षा होकर रहेगी।

परीक्षा केंद्र पर जाएं तो आपस में ही ख्याल रखें। एक दूसरे से दूर रहें। थोड़ा पहले पहुंचे। मास्क पहनें। आप सभी को शुभकामनाएं।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano