रोज़े के दौरान हमारे जिस्म के रद्दे अमल के बारे में कुछ दिलचस्प मालूमात

12:06 pm Published by:-Hindi News

पहले दो रोज़े:

पहले ही दिन ब्लड शुगर लेवल गिरता है यानी खून से चीनी के नुक़सानदेह असरात का दरजा कम हो जाता है- दिल की धड़कन सुस्त हो जाती है और खून का दबाव कम हो जाता है यानी B P गिर जाता है- आसाब (पुट्ठे) जमा शुदा ग्लाइकोजिन को आज़ाद कर देते हैं जिसकी वजह से जिस्मानी कमज़ोरी का एहसास उजागर हो जाता है- ज़हरीले माद्दों की सफाई के पहले मरहले में नतीजतन सर दर्द- चक्कर आना- मुंह का बदबूदार होना और ज़बान पर मवाद के जमा होना होता है-

तीसरे से सातवें रोज़े तक:

जिस्म की चर्बी टूट फूट का शिकार होती है और पहले मरहले में ग्लूकोज़ में तब्दील हो जाती है- बाज़ लोगों की जिल्द मुलायम और चिकनी हो जाती है- जिस्म भूख का आदी होना शुरू करता है और इस तरह साल भर मसरूफ रहने वाला निज़ामे हाज़मा रुख्सत मनाता है जिसकी उसे शदीद ज़रूरत थी- खून के सफेद बैक्टेरिया और क़ुव्वते मुदाफअत (Immunity) में इज़ाफा शुरू हो जाता है- हो सकता है रोज़ेदार के फेफड़ों में मामूली तकलीफ हो इसलिए कि ज़हरीले माद्दों की सफाई का अमल शुरू हो चुका है- अंतड़ियों और कोलोन की मरम्मत का काम शुरू हो जाता है-अंतड़ियों की दीवारों पर जमा मवाद ढीला होना शुरू हो जाता है

ramzan

आठवें से पंद्रहवे रोज़े तक:

आप पहले से तवाना महसूस करते हैं- दिमागी तौर पर चुस्त और हल्का महसूस करते हैं- हो सकता है पुरानी चोट और ज़ख्म महसूस होना शुरू हों- इसलिए कि अब आपका जिस्म अपने दिफा (बचाव) के लिए पहले से ज़्यादा फआल ( सरगर्म) और मज़बूत हो चुका है- जिस्म अपने मुर्दा या कैंसर शुदा सेल को खाना शुरू कर देता है जिसे आम हालात में कीमियोथैरेपी के साथ मारने की कोशिश की जाती है- इसी वजह से दबी हुई पुरानी तकालीफ और दर्द का एहसास निस्बतन बढ़ जाता है- आसाब (पुट्ठे) और टांगों में तनाव इस अमर का क़ुदरती नतीजा होता है- ये क़ुव्वते मुदाफअत (Immunity) के जारी अमल की निशानी है- रोज़ाना नमक के गरारे आसाबी अकड़ाओ का बेहतरीन इलाज है-

सोलहवे से तीसवे रोज़े तक

जिस्म पूरी तरह भूख और प्यास को बर्दाश्त का आदी हो चुका है- आप अपने आप को चुस्त- चाको चौबंद महसूस करते हैं- इन दिनों आपकी ज़बान बिल्कुल साफ और सुर्खी माइल हो जाती है- सांस में भी ताज़गी आ जाती है- जिस्म के सारे ज़हरीले माद्दों का खात्मा हो चुका है- निज़ामे हाज़मा की मरम्मत हो चुकी है- जिस्म से फालतू चर्बी और फासिद माद्दे बाहर हो चुके हैं- बदन अपनी पूरी ताक़त के साथ अपने फराइज़ अदा करना शुरू कर देता है- बीस रोज़ों के बाद दिमाग और याद्दाश्त तेज़ हो जाते हैं- तव्वजोह और सोच को मरकूज़ करने की सलाहियत बढ़ जाती है- बिला शुबह बदन और रूह तीसरे अशरे की बरकात को भरपूर अंदाज़ से अदा करने के क़ाबिल हो जाता है-

ये तो दुनिया का फायदा रहा जो बेशक हमारे खालिक़ ने हमारी ही भलाई के लिए हम पर फर्ज़ किया- मगर देखिए उसकी रहमत का अंदाज़े करीमाना कि उसके अहकाम मानने से दुनियां के साथ साथ हमारी आखिरत भी संवारने का बेहतरीन बंदोबस्त कर दिया..!!

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें