Saturday, July 31, 2021

 

 

 

असल सुल्तान- गरीब किसान के बेटे हुसैन ने रशिया में जीता कुश्ती में मैडल

- Advertisement -
- Advertisement -

ज़मीनी सच्चाई कुछ और होती है. खिलाडी को हम टेलीविजन  पर तो देख लेते है लेकिन उसके पीछे की जद्दो जेहद का हम अंदाज़ा नहीं लगा सकते.गरीबी मुफलिसी अक्सर होनहार शख्सियतों में रोड़ा ज़रूर बनते है.मगर कुछ लोगो में अल्लाह ऐसी ताकत दे देता है के ओ किसी भी परेशानी,आफत,तकलीफ को अपनी मज़बूरी नहीं बल्कि अपनी ताकत बना लेता है और कामयाबी उस  मंज़िल का  खुद  रास्ता पूछने लगती है.यकीनन उन्ही लोगों में से एक है हुसैन मुल्ला…! हुसैन मुल्ला ने बिलकुल कम उम्र में ओ कर दिखाया  है जिसे हम ताज्जुब ही कह सकते है.खास कर जब ओ शख्स हमारे अपने बेलगाम जिला का हो.

हुसैन सलीम साब  मुल्ला ने रशिया के याकुतिया शहर में मुनक़्क़द इंटरनेशनल रेसलिंग मुकाबलों में मंगोलिया के पहलवान को पछाड़ते हुए ब्रोंज़ मैडल हासिल किया है.जिसकी हर तबके में सराहना की जा रही है.पंडित नेहरू पीयू कॉलेज शाहपुर की दसवी कक्षा में पढ़नेवाले हुसैन ने   भारत देश को ओलम्पिक में मैडल हासिल करने की ख्वाहिश को पैगाम ए इत्तेहाद के सामने ख़यालात को  ज़ाहिर  करते हुए कहा..हम सब दुआ गो है के अल्लाह ताला हुसैन को कामयाबी अता फरमाये.

बेलगाम शहर से करीब हुक्केरी तालुका के सुल्तानपुर गांव का रहनेवाला हुसैन किसान का लड़का है.जिसे बचपन से ही कुश्ती का शौक था.पाँचवी कक्षा में जब पढ़ रहा था तब इसकी कुश्ती में दिलचस्पी देख कर डीवाययीएस स्पोर्ट्स हॉस्टल वालों ने काबिलियत का अंदाज़ा  लगाते हुए स्पोर्ट्स क्लब में  दाखिला  दिया.जो आज भी बेलगाम के इसी स्पोर्ट्स हॉस्टल में रहता है.इनके कोच,अल्ताफ मुल्ला,नागराज पाटिल और हनुमंत पाटिल है.

जब हुसैन छटी कक्षा पहुंचा  तो स्टेट लेवल का मुकाबला चिक्कबल्लापुर में रखा हुआ था.कुश्ती के रियासती  मुकाबलों में भी हुसैन ने दूसरा नंबर हासिल करते हुए सिल्वर मैडल लिया.हर साल मुकाबले में कभी सिल्वर ,कभी ब्रोंज़ कभी  गोल्ड इस तरह अपनी शख्सियत को कुस्ती के मैदान में चमकाते ही रहा.हर साल कामयाबी मिल रही थी वैसे उम्मीदे भी बढ़ने लगी 9th  में स्कुल की तरफ से नेशनल लेवल मुकाबलों में हिस्सा लिया..अब रियासत से बाहर जाने का वक़्त आया तो हुसैन ने नेशनल लेवल मुकाबलों में शिरकत फरमाने का मौका हासिल किया .हुसैन के मासूम ज़ेहन ने पहाड़ों का जिगर पाल रखा था और मुल्की सतह पर होनेवाले मुकाबले जो देहली में मुनक़्क़द किये गए थे, पंजाब के पहलवान को पछाड़ दिया.और दूसरा नंबर हासिल कर सिल्वर मैडल का हक्कदार बन गया.

उम्मीदे और वसी हो गयी.अब पूना फेडरेशन की जानिब से मास रेसलिंग के लिए और खापसा गई रेसलिंग के लिए इंतेखाब किया गया.अब भारत देश के बाहर मुकाबले होने जा रहे थे और रशिया के याकुतिया में मुकाबलों को रखा गया था .एशिया के मुख़्तलिफ़ मुमालिक से पहलवान कुश्ती का मुकाबला जितने आये थे.पूना फेडरेशन खासगी होने की वजह से जेब से खर्चा करना पड़ रहा था जो हुसैन के लिए मुमकिन नहीं था.लेकिन हुसैन ने अज़्म को मोहकम बना दिया था जिसके लिए अल्लाह की मदद भी ज़रूरी थी.कुछ लोग बतौर जरिया सामने आये और उन्होंने  मदद फरमा कर मुश्किल को आसान कर दिया.ख़ुसूसन साबिक पालक मंत्री सतीश जार्कीहोली,बेलगाम एमएलए जनाब फ़िरोज़ सेठ,माइनॉरिटी बेलगाम जिलाः सदर सलीम खतीब,जनाब शाहिद  चोंचे,बागवान सोसाइटी,अब्दुल मजीद मकानदार ने तआवुन फरमा कर उम्मीद को टूट्टने नहीं दिया.आखिर में हुसैन को एक लाख का क़र्ज़ भी लेना पड़ा,गरीबी रोड़ा तो बन सकती है मगर मज़बूत इरादे किस तरह कामयाबी की राहें हमवार करती है इसकी मिसाल अगर हम हुसैन से ले ले तो गलत ना होगा.हुसैन मुला रशिया के लिए तमाम परेशानियों पर फतह पाते  पहोंच गए .और तमाम लोगों की उम्मीदे और कोशिशों को जाया जाने नहीं दिया मंगोलिया के पहलवान को पछाड़ दिया और ब्रोंज़ मैडल पर कब्ज़ा कर लिया.हुसैन की  कामयाबी यकीनन गैर मामूली है.जहाँ हम छोटी सी मुसीबत को नाकामयाबी की वजह बना कर ढिंडोरा पीटते है वहीँ हुसैन ने हिम्मत ए मर्द मदद ए खुदा की मिसाल को कायम करते हुए ना सिर्फ बेलगाम का ना सिर्फ कर्नाटक बल्कि भारत देश के लिए एक उम्मीद बन कर उभरा है.कोशिशें कभी जाया नहीं जाती.का सबक हम ज़रूर ले सकते है.

हुसैन के वालिद सलीम साब मुल्ला के लिए कामयाबी यकीनन गैरमामूली है जिससे हम सब को सबक सीखना है के कोशिश करे तो मंज़िल खुद  हमें तलाशती है.हमारे बच्चों को इस बात की तरफ तवज्जोह दिलाने की ज़रूरत  है  के किसी मकसद को सामने रख कर ज़िन्दगी बसर करे.इंशाअल्लाह मुस्तकबिल रोशन होगा.हुसैन मुल्ला नौजवानों के लिए मिसाल बन सकता है

इक़बाल अहमद जकाती, संपादक -पैगाम ए इत्तेहाद हिंदी हफतवारी अखबार -बेलगाम कर्नाटक

यह लेख लेखक की निजी प्रस्तुती है पुन: प्रकाशन के लिए लेखक से अनुमति लेना आवश्यक है 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles