BJP boil Video bombs, many leaders arose fingers

बचपन में स्कूल में टीचर से बिल्ली और दो बंदरों की एक कहानी सुनी थी. जिसमे बंदरों को एक रोटी मिलती हैं. लेकिन दोनों ही आपस में बराबर बाटने के बजाय लड़ते रहते हैं. दोनों की लड़ाई का फायदा उठाकर बिल्ली अपनी शतिराना चाल से रोटी को चट कर जाती हैं. ये कहानी आज फिर से याद आ गई.

कहानी याद आने का कारण बना यूपी का चुनाव और बरेली और देवबंद की सीटें. दोनों ही इलाकें देखा जाए तो मुस्लिमों के गढ़ हैं. एक तरफ बरेली सुन्नी बरेलवी मुस्लिमों का गढ़ हैं तो वहीँ देवबंद देवबंदी मुसलमानों का. दोनों ही जगह पर दोनों ही फिरकों की तादाद ऐसी हैं कि ये अगर संगठित होकर मतदान करे तो किसी का नसीब बिगाड़ सकते हैं, तो किसी की किसी की किस्मत भी चमका सकते हैं. बावजूद इसके बीजेपी इन दोनों ही जगहों की सभी सीटों पर जीत का परचम गाड़ने में कामयाब रही.

बरेली की 9 विधानसभाओ में बीजेपी ने भारी मतों के साथ परचम लहराया है. बहेड़ी से बीजेपी के छत्रपाल गंगवार, मीरगंज से बीजेपी के डॉ डी सी वर्मा, भोजीपुरा से बीजेपी के बहोरन लाल मौर्य, नबाबगंज से बीजेपी के केसर सिंह, फरीदपुर से बीजेपी के डॉ. श्याम बिहारी, बिथरी चैनपुर से बीजेपी के राजेश मिश्रा उर्फ़ पप्पू भरतौल, सिटी से बीजेपी के डॉ. अरुण कुमार, कैंट से बीजेपी के राजेश अग्रवाल वहीं आंवला से बीजेपी के धर्मपाल सिंह ने जीत दर्ज की है. वहीँ देवबंद में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार कुंवर बृजेश सिंह ने जीते है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

देवबंद से भाजपा प्रत्याशी कुंवर बृजेश सिंह ने बसपा के माजिद अली 26,355 वोटों से मात दी. बृजेश सिंह को जहां 67,474 वोट मिले, वहीं बसपा प्रत्याशी को 35,750 वोट हासिल हुए. तीसरे नंबर पर सपा प्रत्याशी माविया अली रहे, जिन्हें 22,391 वोटों से संतोष करना पड़ा.

Loading...