आखिर आरक्षण की सबसे ज्यादा जरूरत किस समुदाय को है ? क्या उस जाति विशेष को आरक्षण की जरूरत है जो एक 47 जैसे असलहे छीन कर पुलिस फोर्स की गाड़ियों में आग लगाने का माद्दा रखती हो ? क्या उस जाति विशेष को आरक्षण की जरूरत है जिसने अलग – अलग राज्यों में पांच हजार करोड़, सात हजार करोड़ की सरकारी व निजी संपत्ती को जलाकर राख कर दिया हो ? जो समुदाय इतना सक्षम है कि उसके प्रचंड को रोकने के लिये इंटरनेट, व मोबाईल सेवाऐं बंद करनी पड़ जायें क्या वह सचमुच आरक्षण पाने का हकदार है ?

दरअस्ल आरक्षण की जरूरत उस समुदाय को है जिसके बारे में दो कमीशन आरक्षण देने की सिफारिश कर चुके हैं। और वह मुस्लिम समुदाय है। समूचे मुस्लिम समुदाय को भी आरक्षण की जरूरत नहीं है। बल्कि दलित मुसलमानों को आरक्षण की जरूरत है। हालांकि सच्चर कमीशन तमाम मुसलमानों की हालात दलितों से भी बदतर बताता है। मगर रंगनाथ मिश्रा कमीशन तमाम मुसलमानों को आरक्षण देने की सिफारिश करके दलित मुसलमानों को मिलने जा रहे आरक्षण की राह में बाधा डाल देने का काम करता है।

इसी देश में सिख दलित, बोद्ध दलित, हिन्दू दलित आरक्षण का लाभ उठा रहे हैं मगर मुसलमान दलित, पारसी दलित, और इसाई दलितों को आरक्षण से वंचित कर रखा है। यह तो नाइंसाफी है।

वसीम अकरम त्यागी
लेखक विज़न मुस्लिम टुडे के सह संपादक है

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?