Sunday, November 28, 2021

पत्रकार अमरेश मिश्रा ने किया भगवा ब्रिगेड के खिलाफ ‘मंगल पांडे’ सेना का निर्माण

- Advertisement -

नई दिल्ली – सप्ताह भर के अंदर पश्चिमी यूपी के हापुड़ और झारखंड में गाय के नाम पर मॉलिंचिंग हुई है। वरिष्ठ पत्रकार अमरेश मिश्रा ने इन घटनाओं को घोर अमानवीय कृत्य करार दिया है। साथ ही उन्होंने चेतावनी दी है कि मेरी यह चेतावनी उन ‘गौ-गुंडों’ के लिए है जो हत्या और ‘गौरक्षा’ के धंधे में लगे हुए हैं। इनके लिये गौ माता सम्मान नही बल्कि बिजनेस की वस्तु हैं।

अमरेश मिश्रा ने बताया कि असली गौरक्षक तो वीर मंगल पांडे थे जिन्होंने गौमांस लगे हुए कारतूसों को अपने दांतों से काटने के लिए साफ इंकार कर दिया था। उन्होंने हिन्दू सिपाहियों पर गौमांस और मुस्लिम सिपाहियों पर सुअर का मांस लगे हुए, दोनों ही प्रकार के कारतूसों को जबरदस्ती थोपने वाले अंग्रेज अफ़सरान के खिलाफ विद्रोह का बिगुल बजाया। इस ‘अपराध’ के लिए उन्हें 8 अप्रैल, 1857 को सूली चढ़ा दिया गया था। उनके इस पावन बलिदान ने ही 1857 के ग़दर की उस चिंगारी को सुलगाया था जिसने हिंदुस्तान पर ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कम्पनी के अत्याचारी शासन का अंत कर दिया।

bajrang dal 620x400

अमरेश मिश्रा ने कहा कि हे गौ-गुण्डों, अगर तुम सनातनधर्म की शिक्षाओं के अनुरूप गाय को वाकई पवित्र मानते हो तो शहीद मंगल पांडे तुम्हारे आदर्श पुरुष होने चाहिए। मंगल पांडे ने किसी मुस्लिम भाई पर बंदूक नहीं उठाई थी। उन्होंने बंदूक उठाई थी अंग्रेजों के खिलाफ! अमरेश ने बताया कि सच तो यह है कि 1857 में मुस्लिम भाइयों ने अपने हिन्दू भाइयों की गौमांस न खाने की धार्मिक भावनाओं और अधिकारों की रक्षा हेतु अपने सीने पर गोलियां खाईं थीं!

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि कान खोलकर सुन लो ! गौरक्षा की आड़ में मुस्लिम भाइयों पर किसी प्रकार का कोई भी हमला मंगल पांडे के उस पवित्र बलिदान पर हमला होगा जो उन्होंने हिन्दू – मुस्लिम एकता की रक्षा के लिए किया था। मेरी ‘मंगल पांडे सेना’ अस्तित्व में आ चुकी है । भर्ती चालू है। हम हत्यारे ‘गौगुण्डों’ को उनके किए की सज़ा जरूर देंगे। 30 जून को उत्तर प्रदेश विधानसभा भवन के सामने शहीद मंगल पांडे की प्रतिमा लगाने का आंदोलन, राष्ट्रद्रोही गौगुण्डों के खिलाफ एक सशक्त हथियार बनके उभरेगा। 1857 राष्ट्रवादी मंच के संयोजक अमरेश मिश्रा ने अपना मोबाईल नंबर 9910924012 भी जारी किया है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles