Tuesday, October 19, 2021

 

 

 

भारत , भाजपा और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद – भाग 1

- Advertisement -
- Advertisement -

आजादी के आंदोलन से लेकर आज तक हिंदूवादी देशभक्ति का विघ्नसंतोषी विचार एक लंबा सफर तय कर चुका है. भारतीय इतिहास के पिछले छ सौ सालों में भारतीय जैसी कोई चीज इस उपमहाद्वीप में बन ही नहीं पायी.

मुगलों के पतन और अंग्रेजों के आगमन के बाद इस देश में देशी तत्व में और बहुत सी चीजें घुल गयीं दलित, मुस्लिम, हिंदू तीनों के अपने अपने विवाद थे जो अपनी अपनी तरह के समाधान ढूंढ़ते थे.

आजादी की दहलीज पर ताकतवर राजनैतिक मुस्लिम अपना भू भाग अलग कर पाकिस्तान बना लिये दलितों को संविधान निर्माता पर गर्व था कि अब भारतीय समाज संविधान को जीवन पद्धति बना लेगा.

कांग्रेस ने भीतर बाहर के मोर्चे पर तब फासिस्टों जैसी सौ मुहीं सोच से काम किया. भीतर आजादी के कार्यभारों की सही धारा कम्युनिस्टों का योजनाबद्ध दमन किया तो बाहर गुट निरपेक्ष से लेकर पाक बांग्लादेश तक आनन फानन लड़ाई में अपना पक्ष मजबूत किया.

समाज में संविधान की विफलता के बीच हिंदूवादी पुर्नस्थापना करने वाली ताकतें अपना काम कर रहीं थीं तो हाशिये पर पड़े मुसलमानों के पास भी धर्म भकोसने के सिवा कोई चारा न था.

धार्मिक लामबंदी अब भाजपा की ताकत थी और इनकी ओछी देशभक्ति का माडल पूरे देश को ही स्वीकार्य न था.आज भी सवर्ण बनियों का इनका ओछा सांस्कृतिक राष्ट्रवाद खिसियाए बंदरों या हाई ब्लड प्रेशर के रोगी सा है जो घर मेँ पत्नी बच्चों को गर्जना भरी डांट से लो बल्ड प्रेशर का मरीज बना देता है और जबर की डांट से पैंट में हग मारता है और अपना रोग बढ़ा लेता है.

आंतरिक सांप्रदायिक कुत्सा भरा गर्जन पाकिस्तान पर औघड़ बयानबाजी और चीन पर इनकी बंदर घुड़की को इसी परिपेक्ष्य में देखिये.

सहिष्णुता का दावा करने वाले हिंदूओं की अभी तक मौजूद एक पीढ़ी ने आधी सदी पहले सन् 47 में भयंकर रक्तपात देखा है जिसमें 7 लाख लोग मारे गये थे. श्याम श्वेत मूक फिल्मों में हम रेल में भरे मुसाफिर देखते हैं, जलते घर धुवां आदि दिखते हैं, चूकि श्याम श्वेत फिल्मों में लाल खून नहीं दिखता, जैसे हिंदू धर्म की सहिष्णुता की बातों के पीछे हिंसा नहीं दिखती.

कटार छाप मूछों वाले मुचड़े से गरम कोट और गंवार पगड़ी पहने आदमी और सावित्रीबाई नुमा औरत और ब्लैक ऐंड व्हाईट कैमरे लायक बच्चे वाले परिवार की फोटो हमें दिखाती है कि ये परिवार पाकिस्तान से आकर बसे थे. मजे की बात जो भी बंटवारे के बाद भारत आया उसकी तो लग गयी. फिर वो कोई परिवार गरीब नहीँ रहा और जो यहीं रहे वो दलिद्दर ही रहे.

सफेद टोपी लगाये खद्दरधारी कांग्रेसी नेता इन श्याम श्वेत फिल्मों में दिखते हैं तो हमारी पीढ़ी को स्वयमेव श्रद्धा फील होती है पर ये लोग महा रंगीन तबीयत और अय्याश थे. आज हमारी चकाचौंध कैलाइडोस्कोपिक नजर, ग्लेज पेपर पर धधकती पत्रिकाओं अखबारों के दौर मेँ हर ब्लैक ऐंड व्हाईट को सादा और सीधा व श्रद्धेय समझ लेती है. हमारे गाँव की कहावत भी है “अनदेखा चोर मां बाप बराबर”.

इंदिरा गांधी की युवा समय की तस्वीर और नेहरु के वायसराय की पत्नी के किस्से दिमाग में गड्ड मड्ड हो जाते हैं. पल्लू सर पे रखी इसी इंदिरा गांधी और उसका बेटा संजय गांधी राज्य की खुली गुंडागर्दी की मिसाल था. जैसे सद्दाम के बेटे उदै और कुसै के किस्से हम बढ़ा चढ़ा कर सुनते हैं, वैसा ही संजय गांधी भी था पर वो प्लास्टिक के चौड़े ओल्ड फ्रेम वाला चशमा आज तक उसके व्यक्तित्व को भ्रमित करता है.

इमरजेंसी से पूर्व 47 से 69 तक भारत का राजनैतिक समय दर्ज तो है पर सब श्रद्धेय सा ही लगता है पर अब इस ऐतिहासिक समय को वर्चुअल रियलीटी टच देने की जरुरत है ताकि इस श्याम श्वेत समय की पाकीजा कट रंगीनियाँ सामने आ सकें. (तीरे नजर देखेंगे जख़्मे जिगर देखेंगे)

संघ जनसंघ के आज चौराहों पर स्थापित लाखों की मूर्ति वाले धोतीधारी आदर्श जिनके नाम पर चलने वाली योजनाओं में करोड़ों का घपला होता है तब सुदामा जैसी राजनैतिक विवशता और मजबूरी के संत थे अगर राजनैतिक सत्ता रुपी कृष्ण न मिले होते तो इनके लिए समय ही ब्लैक ऐंड व्हाईट होता ये टाइम स्पेस कर्व से इतर संताप की डायमेंशन होती. ये तात्या टोपे और झलकारी बाई के समय से बाहर न आ पाते. प्रमोद महाजन और उसके बेटे राहुल महाजन की मरभुख्खों की तरह अफारा होने तक तमाम आधुनिकता पी लेने के पीछे इनकी अतृप्त इच्छाऐं झांकती हैँ.

संघ जनसंघ से भाजपा और आज की आधुनिक बीजेपी जिसके फनी नारे “चप्पा चप्पा भाजप्पा” टाईप तक आने का इतिहास बड़ा मजेदार है. गीताप्रेस की पुस्तकों से इसको समझने की कोशिश करेंगे और कोशिश करेंगे ये दिखाने की कि इतिहास महज सन तारीख नहीं बल्कि एक रंगमंच है.

भाग – 2 

भाग – 3

दीप पाठक

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles