Sunday, August 1, 2021

 

 

 

मेडिकल साइंस की नजर में रोज़े की अहमियत…

- Advertisement -
- Advertisement -

(1) मनुष्य के शरीर में मेदा एक ऐसा कोमल अंग है जिसकी सुरक्षा न की जाए तो उस से विभिन्न प्रकार के रोग उत्पन्न होते हैं। इस प्रकार रोज़ा मेदा के लिए उत्तम औषधि है क्योंकि एक मशीन यदि सदैव चलती रहे और कभी उसे बंद न किया जाए तो स्वभावतः किसी समय वह खराब हो जाएगी। उसी प्रकार मेदे को यदि खान-पान से विश्राम न दिया जाए तो उसका कार्यक्रम बिगड़ जाएगा।

(2) डाक्टरों का मत है कि रोज़ा रखने से आंतें दुरुस्त एंव मेदा साफ और शुद्ध हो जाता है। पेट जब खाली होता है तो उसमें पाए जाने वाले ज़हरीले कीटाणु स्वंय मर जाते हैं और पेट कीड़े तथा बेकार पदार्थ से शुद्ध हो जाता है। उसी प्रकार रोज़ा वज़न की अधिकता, पेट में चर्बी की ज्यादती, हाज़मे की खराबी(अपच), चीनी का रोग (DIABATES) बलड प्रेशर, गुर्दे का दर्द, जोड़ों का दर्द, बाझपन, हृदय रोग, स्मरण-शक्ति की कमी आदि के लिए अचूक वीण है।

डा0 एयह सेन का कहना हैः “फाक़ा का उत्तम रूप रोज़ा है जो इस्लामी ढ़ंग से मुसलमानों में रखा जाता है। मैं सुझाव दूंगा कि जब खाना छोड़ना हो तो लोग रोज़ा रख लिया करें।”

इसी प्रकार एक इसाई चिकित्सक रिचार्ड कहता हैः “जिस व्यक्ति को फाक़ा करने की आवश्यकता हो वह अधिक से अधिक रोज़ा रखे। मैं अपने इसाई भाइयों से कहूंगा कि इस सम्बन्ध में वह मुसलमानों का अनुसरण करें। उनके रोज़ा रखने का नियम अति उत्तम है।” (इस्लाम और मेडिकल साइंस 7)

नर्विज की एक कमेटी नें एक खोज द्वारा स्पष्ट किया कि रोज़ा जोड़ों के दर्द और सूजन के लिए सब से उत्तम औषधि है शर्त यह है कि निरंतर चार सप्ताह ( और यही इस्लामी रोज़े की अवधि है) तक रखा जाए।

आक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रसिद्ध प्रोफ़ेसर डा. मोर पाल्ड कहते हैंः
”मैंने इस्लामी शिक्षाओं का अध्ययन किया और जब रोज़े के विषय पर पहुंचा तो चौंक पड़ा कि इस्लाम ने अपने अनुयाइयों को इतना महान फारमूला दिया है, यदि इस्लाम अपने अनुयाइयों को और कुछ न देता तो केवल यही रोज़ा का फारमूला उसके लिए काफ़ी था।” ( सुन्नते नबवी और आधुनिक विज्ञान 1/165)

तात्पर्य यह कि रोज़ा (उपवास) एक महत्वपूर्ण इबादत होने के साथ साथ शारीरिक व्यायाम भी है।

 Shooke Mushrraf

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles