modii

अभिषेक मालवीय

गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटांे के उपचुनाव में सपा और बसपा के गठबंधन ने जीत दर्ज की । उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के राज्य विधान परिषद में चुने जाने के बाद गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों के लिए उपचुनाव हुए थे ।

उत्तर-पूर्व मे परचम लहरा कर भाजपा भले ही राष्ट्रीय स्तर पर जीत हासिल कर भगवाकरण का हरा-भरा मंजर दिखा रही है ,लेकिन पिछले तीन महीनों के छोटे से अंतराल में लोकसभा और विधानसभा उपचुनावों में लगातार हार के बाद कहीं ना कहीं मोदी लहर फीकी पड़ती दिख रही है ।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसका ताजा उदहरण भाजपा के 28 साल पुराने गढ़ गोरखपुर में जिस सीट पर वर्ष 1998 से 2014 तक लगातार 5 बार वर्तमान सीएम योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से विजयी होते रहे वो इस उपचुनाव में अपनी ही सीट नहीं बचा पाएं । इससे पहले जनवरी में राजस्थान की अलवर ,अजमेर तथा पश्चिम बंगाल की उलूबिरया सीट के लोकसभा उपचुनाव में भाजपा को करारी शिकस्त मिली थी ।

bjp2 kvwe 621x414@livemint

इसके बाद फरवरी में मध्यप्रदेश की मुंगावली और कोलारस विधानसभा सीटें भी भाजपा नहीं जीत सकी अब मार्च में उत्तरप्रदेश के फूलपुर और बिहार के अररिया लोकसभा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी चारों खाने चित हो गए । यह चुनावों ने यह सबित कर दिया है कि मोदी के चेहर के बिना भाजपा जीत हासिल नहीं कर सकती है ।

इन चुनावों में हार का एक प्रमुख कारण लाखों बेरोजगार और किसानों का गुस्सा भी माना जा सकता है । जिस मोदी सरकार ने रोजगार और किसान की कर्ज माफी का बादा किया था वह भी अभी तक पूरा नहीं हुआ है । इस वर्ष के अंत में मध्यप्रदेश , छत्तीसगढ़ , कर्नाटक और राजस्थान में चुनाव होने हैं । इन चार राज्यों के चुनावों को 2019 के लोकसभा चुनाव से सीधा जोड़कर देखा जा सकता है और जिन लाखों किसानों और बेरोजगारों ने 2014 के लोकसभा चुनाव में वोट दिए थे वह 2019 में भी देगें यह कहना मुश्किल है ।

एक तरफ तो भाजपा देश को कांग्रेस मुक्त भारत करने का नारा दे रही है और दूसरी तरफ भाजपा अपनी ही सीटों को खोती जा रही है । अगर भाजपा को राष्ट्र-फतह करना है तो पहले अपने ही किले उन्हें सुरक्षित रखने होंगे और दूसरी विशेष बात यह कि कांग्रेस को भारत से खत्म करना सिर्फ भाजपा के वश की बात नहीं है कांग्रेस उनके खत्म करने से खत्म नहीं होगी, बल्कि तब खत्म होगी, जब सारी विपक्षी पार्टियां मिलकर कांग्रेस को खत्म करने का संकल्प ले लेगी । लेकिन सभी विपक्षी दलों का भाजपा के साथ हाथ मिलाना दूर-दूर तक नहीं दिख रहा इसीलिए अगर भाजपा अभी भी जनता के मन की बात को नहीं समझ सकी तो आने वाले समय में उसे हार का सामना करता पड़ सकता है।

Loading...