बलरामपुर | उत्तर प्रदेश चुनावो में नेताओं के बीच जुबानी जंग जारी है. लेकिन इन सब में यह तय हो चूका है की अब प्रदेश में विकास कोई मुद्दा नही रह गया है. अब मुद्दे कसाब, गधा, और कब्रिस्तान-शमशान रह गए है. सभी नेताओ की रैलियों में केवल जुमले छोड़े जा रहे है. प्रदेश की बदहाल जनता और उनकी जरूरतों पर कोई बात भी नही करना चाहता. सभी को केवल उत्तर प्रदेश की सत्ता दिखाई दे रही है.

ऐसे में भला योगी आदित्यनाथ भला कैसे पीछे रह जाते है. वो तो खुद ऐसे बयानो के माहिर माने जाते है. ऐसे में उनको यह बात बिलकुल अच्छी नही लगी की पिछले कुछ दिनों से बाकी नेताओं के बयान सुर्खिया पा रहे है और उनके बारे में कोई बात भी नही कर रहा. इसलिए इसकी कसर उन्होंने आज पूरी कर दी. अभी तक केवल इंटरव्यू में सुनाई दे रहा राम मंदिर मुद्दा, आज जनता के बीच भी ताजा कर दिया गया.

योगी आदित्यनाथ ने बलरामपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए राम मंदिर का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा की अगर चुनावो में बीजेपी की जीत हुई तो प्रदेश में राम मंदिर बनेगा और अगर समाजवादी पार्टी की सरकार बनी तो प्रदेश में कब्रिस्तान और कर्बला बनेगे. आदित्यनाथ ने अखिलेश सरकार के वादों को खोखला बताते हुए कहा की अगर काम देखना है तो मोदी सरकार के देखिये, अखिलेश सरकार भेदभाव से काम करती है.

योगी ने अखिलेश सरकार पर समाज को बाँटने का आरोप लगाते हुए कहा की उन्होंने प्रदेश को जाति और मजहब के नाम पर बांटा है. उनके इस रवैये के कारण आज उत्तर प्रदेश की धरती बदहाली झेल रही है, यहाँ की 22 करोड़ जनता जलालत झेल रही है. योगी ने लोगो से वादा किया की अगर बीजेपी सरकार बनी तो प्रदेश में पशु तस्करी रुकेगी, अवैध बूचडखाने बंद होंगे. योगी ने राहुल गाँधी को हार का ठीकरा अपने साथ लेकर चलने वाला नेता बताया.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें