शर्मनाक: योगी आदित्यनाथ ने शुरू की मौला अली और बजरंगबली पर घटिया राजनीति

मेरठ: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने एकबार फिर से अली और बजरंगबली को राजनीति में लेकर आ गए।मेरठ में मंगलवार को योगी ने कहा कि अगर एसपी-बीएसपी और कांग्रेस का भरोसा अली में है तो हमारा भरोसा बजरंगबली में है।

योगी आदित्यनाथ ने कहा, आपने सहारनपुर में मायावती को रैली दिए गए को भाषण सुना होगा। मायावती ने अपने भाषण में क्या कह रही हैं? वह अपने भाषण में कह रही हैं। उस मुस्लिम वोट मिल जाए बाकी वोट महागठबंधन को नहीं चाहिए। मैं आपसे कहना चाहता हूं भाइयों बहनों अगर कांग्रेस को सपा बसपा को अली पर विश्वास है तो हमे भी बजरंगबली पर विश्वास है। कांग्रेस सपा, बसपा, लोकदल, इन्होंने कह दिया है।

योगी ने कहा, इन्होंने मान लिया है बंजरंगबली के अनुयायी उन्हें कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे। वे मंच मंच पर जाकर अली अली कहते हुए वायरस फैला रहे हैं। लेकिन भाइयों बहनों इस हवा वायरस की चपेट में  पश्चिमी उत्तर प्रदेश को आने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा, पूर्वी उत्तर प्रदेश में हम उन्हें पहले ही सफाया कर चुके हैं। अब पश्चिमी उत्तर प्रदेश में एक बार कांग्रेस, सपा, बसपा, लोकदल के गठबंधन को ध्वस्त कर दीजिए।

मुख्यमंत्री ने कहा, “देश के विरोधियों को साथ लेकर कांग्रेस सत्ता में वापसी करना चाहती है। जब केरल में वायनाड सीट से नामांकन भरने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पहुंचे तो उनके रोड शो में भारत की विभाजनकरी शक्ति मुस्लिम लीग का झंडा लहरा रहा था। सपा, बसपा और रालोद का कहना है कि उन्हें हिंदू वोट नहीं चाहिए। वे हरे वायरस की चपेट में हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, “हमने विकास के लिए मत और मजहब नहीं देखा और सबका विकास किया। हमने सुरक्षा के मोर्चे पर किसी से समझौता नहीं किया। हमारे लिए जनता की सुरक्षा ही सबसे ऊपर है हमारी सरकार आई तो पूरे प्रदेश में एक भी दंगे नहीं हुए। पुलिस अब सख्ती से अपराधियों के साथ पेश होती है। पहले की सरकारों में कोई महीना ऐसा नहीं होता था जब दंगा नहीं होता था। कोई पर्व त्योहार नहीं मनता था। दंगाइयों को सत्ता का संरक्षण मिलता था। दंगाइयों को वोट बैंक बनाया गया था।”

विज्ञापन