रविवार को कंगना रनोट ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ बहन रंगोली भी थीं। राज्यपाल से मिलने के बाद कंगना ने कहा कि राजनीति से मेरा कोई लेना-देना नहीं है। मेरे साथ जो अभद्र व्यवहार किया गया, उसके बारे में मैंने राज्यपाल से बात की। मुझे उम्मीद पर है कि मामले में मुझे न्याय मिलेगा।

वहीं इससे पहले महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने राज्य के लोगों को संबोधित किया। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उन्होने कहा कि महाराष्ट्र को बदनाम करने का सिलसिला चल रहा है। लेकिन यह कामयाब नहीं होगा। जितने भी राजनीतिक तूफान है, उनका मैं सामना करूंगा।

ठाकरे ने कहा कि ये राज्य मेरा परिवार है। हम चाहे विदर्भ हो या राज्य के दूसरे हिस्से, सभी पर बारी-बारी से ध्यान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि जितने भी राजनीतिक तूफान है, उनका मैं सामना करूँगा। कोई परवाह नही है। जनता से उनका यही कहना है कि वे सरकार से खबरदारी लें, जबकि जवाबदारी सरकार देगी।

मराठा आरक्षण के मामले पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि पूरी विधानसभा ने एकसाथ मिलकर मराठा समाज के लिए आरक्षण की घोषणा की है। पहले हाई कोर्ट में मामला गया, फिर सुप्रीम कोर्ट में गया। मराठा आरक्षण को स्टे देने की जरूरत नहीं थी, लेकिन स्टे दिया गया है। मैं सभी नेताओं के साथ इस मुद्दे पर संपर्क में हूं।

कोरोना को लेकर उन्होने कहा, कोरोना का संकट बढ़ रहा है और भी बढ़ेगा। पूरी दुनिया में लगता है कि सेकेंड वेव शुरु होगी। कोरोना को लेकर आपको डरने की जरूरत नहीं है, आप खबरदार रहें, हम जिम्मेदारी निभा रहे हैं। कुछ जिम्मेदारी आप उठाएंगे, कुछ हम उठाएंगे। महाराष्ट्र की स्थिति पूरी तरह खराब नहीं है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano