Saturday, May 15, 2021

क्या अमेरिका ओसामा बिन लादेन का शहादत दिवस मनाने देगाः वेंकैया नायडू

- Advertisement -

नई दिल्ली मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा का नाम लिए बिना पूछा है कि अगर अमेरिका की किसी यूनिवर्सिटी में ओसामा बिन लादेन का शहादत दिवस मनाया जाएगा तो वह ‘सहिष्णु’ रहेगा।

इस हफ्ते की शुरुआत में वर्मा ने जेएनयू मामले पर नई दिल्ली और पटना में टिप्पणी की थी कि फ्री स्पीच भारत और अमेरिका का केंद्रीय सिद्धांत है।

क्या अमेरिका ओसामा बिन लादेन का शहादत दिवस मनाने देगाः वेंक...संसद पर हमले के मामले में दोषी पाए गए अफजल गुरु की डेथ ऐनिवर्सरी पर जेएनयू में ‘देशविरोधी’ नारे लगाए जाने पर नायडू ने गुरुवार को लोक सभा में कहा, ‘भारत अपनी यूनिवर्सिटीज में ऐसी गतिविधियां बर्दाश्त नहीं कर सकता और अपने युवाओं को विदेशी विचारधारा और विदेशी ताकतों से प्रभावित तत्वों द्वारा गलत दिशा में ले जाने की इजाजत नहीं दे सकता है।’

इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक खबर के मुताबिक राष्ट्रपति के अभिभाषण के लिए धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान नायडू ने कहा, ‘क्या वे अमेरिका की किसी यूनिवर्सिटी में ओसामा बिन लादेन का शहादत दिवस मना सकते हैं? क्या अमेरिका कह सकता है, ओसामा हम शर्मिंदा हैं, तुम्हारे कातिल जिंदा हैं या अमेरिका के टुकड़े होगे- इंशाअल्लाह इंशाअल्लाह। अगर कोई ऐसा कहेगा तो क्या अमेरिका इसे सहन करेगा?’

नायडू ने कहा, ‘अमेरिका एक महान देश हो सकता है, सारे संसाधन जिसके अधीन हैं, लेकिन हम भारतीयों का भी आत्मसम्मान है। हम भी अपने देश की एकता, अखंडता, सुरक्षा और संप्रभुता के लिए चिंतित हैं।’ उन्होंने आगे कहा, ‘जो देश हमें सीख दे रहे हैं या यह कह रहे हैं कि भारत असहमति को जगह नहीं देता, मैं उन्हें बताना चाहूंगा कि एक बार मैं अपने ओएसडी के साथ अमेरिका गया था। मेरे ओएसडी को एक घंटे तक रोका गया। एक घंटे तक पूछताछ चली। मैं कुछ नहीं कर सका, क्यूंकि देश से बाहर था। उस लड़के की दाड़ी थी और यह उनके शक की वजह थी।’ उन्होंने तर्क दिया कि अगर अमेरिका सुरक्षा के लिए सावधानी बरत सकता है तो भारत पाकिस्तान समर्थित और अलगाववादी नारे लगाने वालों पर ऐक्शन क्यों नहीं ले सकता है।

उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान के एक कोर्ट ने विराट कोहली की तारीफ करने वाले अपने नागरिक उमर दराज को 24 घंटे के भीतर 10 साल जेल की सजा सुनाई। नायडू ने कहा कि यह क्रिकेट का मामला था, अगर कोई पाकिस्तानी भारतीय शहीद की तारीफ करता तो क्या होता। उन्होंने ‘अफजल के केस में ठीक फैसला नहीं हुआ’ कहने वाले पूर्व गृह औऱ वित्त मंत्री और कांग्रेसी नेता पी चिंदबरम की भी आलोचना की। (नवभारत टाइम्स)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles