mamata-banerjee

कोलकाता | पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नोट बंदी के बाद प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ हमलावर रुख अपनाया हुआ है. ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी ने सड़क से लेकर संसद तक नोट बंदी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है. ममता जगह जगह रैली कर लोगो को नोट बंदी के नुक्सान गिनाने में लगी हुई है. पिछले कुछ दिनों से शांत दिख रही ममता ने मोदी पर ताजे प्रहार किये है.

तृणमूल कांग्रेस की कोर कमिटी की बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए ममता ने कहा की हम 1 जनवरी से मोदी सरकार के खिलाफ आन्दोलन तेज करने वाले है. हम पुरे राज्य में सड़क पर उतर विरोध प्रदर्शन करेंगे. नोट बंदी से देश को जो आर्थिक और सामाजिक क्षति पहुंची है उसके बारे में देश की जनता को जागरूक करेंगे. यही नही नोट बंदी की वजह से जो लोग बेरोजगार हो गए है उनकी लिस्ट हम राष्ट्रपति जी के पास भेजेंगे.

ममता ने आगे कहा की हम पुरे राज्य में ‘मोदी हटाओ देश बचाओ’ नारे के साथ प्रदर्शन करेंगे. यह देश का दुर्भाग्य है की देश की कमान एक ऐसे नेता के हाथ में है जिन्होंने अपने राजनितिक जीवन की शुरुआत ही साम्प्रदायिक दंगो के साथ की हो. ममता बनर्जी का इशारा गुजरात दंगो की और था. उनके हाथ में देश बिलकुल सुरक्षित नही है.

ममता बनर्जी का कहना है की नोट बंदी के बाद देश के करीब 10 करोड़ लोग बेरोजगार हो चुके है. हम उनकी लिस्ट बना रहे है जिसको बहुत जल्द राष्ट्रपति जी के पास भेजा जायेगा. कैशलेस के सन्दर्भ में बात करते हुए ममता ने कहा की 92 फीसदी गाँव में बैंक नही है. सरकार कैशलेस अर्थव्यवस्था हमारे ऊपर थोप रही है. इससे असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे लोग बेरोजगार हो गए. वो अपने घर लौट रहे है. सारे फैसले अली बाबा (मोदी) और उनके चार सहयोगी ले रहे है. जो देश और उनकी पार्टी को नुक्सान पहुंचा रहे है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें