mamata banerjee pti

नोटबंदी के सबंध में आरबीआई की और से जारी रिपोर्ट सामने आने के बाद मोदी सरकार पर विपक्ष ने आक्रामक रुख अपना लिया है। कॉंग्रेस के बाद तृणमूल काँग्रेस ने सवाल उठाया कि आखिर काला धन कहां गया?

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट कर कहा, “मेरा पहला सवाल आज यह है कि काला धन कहां गया?..मेरा दूसरा सवाल यह है कि क्या यह योजना इसलिए लाई गई थी कि काला धन रखने वाले अपने काले धन को गुपचुप सफेद धन में परिवर्तित कर लें?” ममता बनर्जी ने यह भी कहा कि उनकी अंतरात्मा कहती है कि क्रूर नोटबंदी की घोषणा एक बड़ा जनविरोधी कदम था।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने यह भी कहा कि इसने देश की आम जनता को, खासतौर से किसानों, असंगठित क्षेत्र, छोटे उद्यमों और कड़ी मेहनत करने वाले मध्य वर्ग को बुरी तरह प्रभावित किया है और आगे भी करेगा। उन्होंने कहा, “आज आरबीआई ने 2017-18 की अपनी वार्षिक रिपोर्ट में हमारी चिंता को सही साबित कर दिया है। यह एक त्रासदी है और शर्म की बात है।”

बता दें कि आरबीआई ने बुधवार को अपनी रिपोर्ट में कहा कि नोटबंदी के समय मूल्य के हिसाब से 500 और 1,000 रुपये के 15.41 लाख करोड़ रुपये के नोट चलन में थे। इनमें से 15.31 लाख करोड़ रुपये के नोट बैंकों के पास वापस आ चुके हैं। यानि बंद नोटों में सिर्फ 10,720 करोड़ रुपये ही बैंकों के पास वापस नहीं आए हैं।

Loading...