rahul gandhi 1

गुजरात में उत्तर भारतीयों के खिलाफ हो रही हिंसा को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गलत करार देते हुए कहा कि कि हिंसा के मूल में राज्य में बंद पड़े कारखाने और बेरोजगारी है।

राहुल गांधी ने ट्वीट में लिखा, ”गरीबी से बड़ी कोई दहशत नहीं है। गुजरात में हो रहे हिंसा की जड़ वहां के बंद पड़े कारखाने और बेरोजगारी है। व्यवस्था और अर्थव्यवस्था दोनों चरमरा रही हैं। प्रवासी श्रमिकों को इसका निशाना बनाना पूर्णत: गलत है। मैं पूरी तरह से इसके खिलाफ खड़ा रहूंगा।”

Loading...

राहुल गांधी के इस ट्वीट का जवाब देते हुए विजय रूपाणी ने कहा कि ‘ अगर राहुल गांधी गुजरात में हो रही हिंसा के खिलाफ हैं तो उन्हें सबसे पहले अपने उन पार्टी सदस्यों के खिलाफ ऐक्शन लेना चाहिए जिन्होंने हिंसा भड़काई है।’ उन्होंने कहा, ट्वीट करना इस मसले का हल नहीं है। इन मामलो पर ठोस कदम भी उठाना होगा। लेकिन क्या राहुल गांधी ऐसा करेंगे?

इससे पहले समाजवादी पार्टी प्रमुख और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी ट्वीट कर इस घटना की निंदा की थी और इसके लिए केंद्र और राज्य की बीजेपी सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

वहीं रविवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी विजय रूपाणी से बात कर उनसे राज्य में प्रवासी बिहारी जनता की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की थी। नीतीश ने कहा, ‘जो भी अपराध में शामिल हैं उन्हें गिरफ्तार कर सजा मिलनी चाहिए लेकिन बाकी उत्तर भारतीयों के साथ मारपीट और बदसलूकी न हो।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें