लखनऊ | सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद और मेनका गाँधी के पुत्र वरुण गाँधी आजकल बीजेपी से खासे नाराज चल रहे है. यही कारण है की वो उत्तर प्रदेश में हो रहे विधानसभा चुनावो में बीजेपी के लिए प्रचार करने भी नही गए. इसी बीच उन्होंने इंदौर में बीजेपी के खिलाफ कुछ ऐसी बाते बोल दी जो उनके भाई राहुल गाँधी लगातार बोल रहे है. वरुण के मुंह से राहुल की भाषा सुनना बीजेपी की रास नही आया.

इसलिए बीजेपी ने वरुण गाँधी को स्टार प्रचारको की लिस्ट ही बाहर का रास्ता दिखा दिया. उत्तर प्रदेश चुनावो के अगले तीन चरणों के लिए बीजेपी ने जो लिस्ट जारी की है उसमे वरुण गाँधी का नाम नही है. इससे पहले विधानसभा चुनावो की तारीखों का एलान होने के बाद स्टार प्रचारको की जो पहली लिस्ट जारी की गयी थी उसमे भी वरुण गाँधी का नाम नही था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मीडिया में मामला उछलने पर दूसरी और तीसरी लिस्ट में वरुण गाँधी का नाम डाला गया. इसके बावजूद वरुण गाँधी ने यूपी में एक भी जनसभा को संबोधित नही किया. उलटे इंदौर में एक स्कूल के व्याख्यान में बोलते हुए उन्होंने बीजेपी के खिलाफ ही बिगुल बजा दिया. उन्होंने रोहित वेमुला की आत्महत्या से लेकर जीडीपी के आंकड़ो तक बीजेपी की खिंचाई की. उन्होंने कहा की जीडीपी बढ़ना किसी देश की तरक्की का पैमाना नही हो सकता.

वरुण ने औधोगिक घरानों को टैक्स में मिल रही छूट का भी विरोध किया. उन्होंने कहा की एक तरफ गरीब किसान को लोन के चन्द रूपए के लिए जान गंवानी पड़ती है और दूसरी और विजय माल्या जैसे लोग कई हजार करोड़ रूपए का लोन लेकर विदेश भाग जाते है. वरुण की बगावती सुर सुनने के बाद कयास लगाये जाने लगे है की कही वरुण बीजेपी छोड़ने का मन तो नही बना रहे है?

Loading...